पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

जम्मू—कश्मीर में जो भी अराजकता फैलाकर युवाओं को गुमराह कर रहे हैं, उनको करारा जवाब दिया जाएगा

WebdeskAug 17, 2021, 12:33 PM IST

जम्मू—कश्मीर में जो भी अराजकता फैलाकर युवाओं को गुमराह कर रहे हैं, उनको करारा जवाब दिया जाएगा


अनुच्छेद 370 निरस्त होने और सरकार द्वारा 2019 के बाद लागू योजनाओं से वाल्मीकि समाज, आदिवासियों, जम्मू-कश्मीर की बेटियों, पश्चिमी पाकिस्तान के शरणार्थियों और समाज के पिछड़े वर्ग को इंसाफ मिला है।




 जम्मू—कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि अनुच्छेद 370 निरस्त होने और सरकार द्वारा 2019 के बाद लागू योजनाओं से वाल्मीकि समाज, आदिवासियों, जम्मू-कश्मीर की बेटियों, पश्चिमी पाकिस्तान के शरणार्थियों और समाज के पिछड़े वर्ग को इंसाफ मिला है। यह सरकार की जिम्मेदारी है कि वह गलतियों को सुधारकर सामाजिक न्याय और भेदभाव को दूर करे। श्री सिन्हा ने कहा कि कुछ राष्ट्र विरोधी और विकास विरोधी तत्व लोगों की भावनाओं को भड़का रहे हैं। भूमि कानून को लेकर किसानों के कल्याण के लिए भूमि सुधार किए गए हैं।


उन्होंने सभी नागरिकों को आश्वासन दिया कि जो भी अघोषित युद्ध के जरिए युवाओं को गुमराह कर रहे हैं, उनको करारा जवाब दिया जाएगा। पड़ोसी देश का राग अलापने वालों को पता होना चाहिए कि जो अपने लोंगों की देखभाल नहीं कर सकता है वहीं हमारे युवाओं को भड़काने का प्रयास कर रहा है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी इंसानियत, जम्हूरियत और कश्मीरियत का जिक्र करते थे। उनके दिखाए गए रास्ते पर चलकर हम जम्मू— कश्मीर में सामाजिक न्याय के लिए कार्यक्रम कर रहे हैं और जमीनी स्तर पर लोकतंत्र को मजबूत किया है। उन्होंने कहा कि हमारी प्राथमिकता जम्मू—कश्मीर में शांति और आपसी भाईचारे को कायम करने की है। साथ ही कहा कि प्रशासन उन परिवारों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है, जिनकी संपत्तियों को कुछ तत्वों के प्रभाव के कारण अवैध कब्जा किया गया। मैं सभी नागरिकों को यह कहता हूं कि वह प्रशासन की मदद करें और आपसी भाईचारे का उदाहरण पेश करें।


Follow Us on Telegram
 

 

Comments

Also read: मौलाना कलीम के खिलाफ नितिन पंत ने दी तहरीर, कन्वर्ट करके बनाया था अली हसन ..

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा।

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा। सुनिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मा. जे. नंदकुमार को कल सुबह 10 बजे और सायं 5 बजे , फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब समेत अन्य सोशल मीडिया मंच पर।

Also read: चन्नी की सरकार में सिद्धू हैं ‘सरदार’ ..

पंजाब में ही नहीं देश को है 'क्रिप्टो कांग्रेस' से खतरा
दिल्ली दंगा: तीन मामलों में छह आरोपितों-मुहम्मद,परवेज,अशरफ,सोनू,जावेद और आरिफ के खिलाफ कोर्ट ने तय किए आरोप

रुड़की में पकड़ा गया था पाकिस्तानी जासूस,नैनीताल हाई कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा

उत्तराखंड ब्यूरो   नैनीताल हाई कोर्ट ने 2012 में पकड़े गए आबिद अली को 7 साल की सजा सुनाई है। आबिद अली पाकिस्तानी नागरिक है, जिसे खुफिया एजेंसियों ने गिरफ्तार किया था। नैनीताल हाई कोर्ट ने 2012 में पकड़े गए आबिद अली को 7 साल की सजा सुनाई है। आबिद अली पाकिस्तानी नागरिक है, जिसे खुफिया एजेंसियों ने गिरफ्तार किया था। जानकारी के मुताबिक आबिद पाकिस्तानी नागरिक था। फ़र्ज़ी दस्तावेजों के आधार पर रुड़की में रह रहा था। उसने यहीं की एक महिला को प्रेम जाल में फंसाकर शादी कर ली। इसी सबके बीच ...

रुड़की में पकड़ा गया था पाकिस्तानी जासूस,नैनीताल हाई कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा