पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

अफगानिस्तान पर संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद ने कहा, फौरन रुके संघर्ष, बने संयुक्‍त-समावेशी, प्रतिनिधि सरकार

WebdeskAug 17, 2021, 01:35 PM IST

अफगानिस्तान पर संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद ने कहा, फौरन रुके संघर्ष, बने संयुक्‍त-समावेशी, प्रतिनिधि सरकार
काबुल में खुलेआम घूम रहे हथियारबंद तालिबानी (फाइल चित्र)


भारत ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि पड़ोसी देश होने के नाते वह अफगानिस्तान में बनी परिस्थितियों से चिंतित है। महासवि गुतेरस ने इस बात बल दिया कि अफगानिस्तान को आतंकवाद का अड्डा नहीं बनने दिया जा सकता



16 अगस्त की देर शाम भारत की अध्यक्षता में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अफगानिस्‍तान की परिस्थितयों पर चर्चा के लिए विशेष बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में सबसे पहले तो चिंता व्यक्त की गई अफगानिस्तान में मानवाधिकार और मानवतावादी कानूनों के उल्‍लंघन की घटनाओं पर सभी सदस्यों ने गहरी चिंता व्‍यक्‍त की। परिषद ने अफगनिस्‍तान में फौरन हिंसा रोकने के साथ ही सुरक्षा, नागरिक प्रशासन और संवैधानिक व्‍यवस्‍था बहाल करने की अपील की।
परिषद द्वारा वहां के मौजूदा संकट को दूर करने के लिए फौरन आपसी वार्ता शुरू करने का भी आह्वान किया गया। सदस्‍यों का कहना था कि राष्‍ट्रीय आम सहमति के माध्यम से अफगानिस्‍तान के प्रतिनिधियों के साथ वर्तमान स्थिति के शांतिपूर्ण समाधान पर बात होनी चाहिए।

उल्लेखनीय है कि भारत की अध्‍यक्षता में संपन्न हुई सुरक्षा परिषद की बैठक अफगानिस्तान की राजधानी काबुल और राष्‍ट्रपति के महल पर तालिबानी कब्‍जे के एक दिन बाद हुई थी। परिषद की बैठक के बाद जारी बयान में है कि सदस्‍य देशों का कहना है कि सभी पक्षों को अंतरराष्‍ट्रीय मानवीय कानूनों का हर स्थिति में अनुपालन करना ही चाहिए। आम जन के जीवन की सुरक्षा से जुड़े सभी अंतरराष्‍ट्रीय निमयों का पालन सुनिश्चित हो। परिषद ने अफगानिस्‍तान में मानवीय सहायता पहुंचाने के प्रयासों को और तेज करने का भी आह्वान किया।
 

 महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने अफगानिस्‍तान पर अंतरराष्‍ट्रीय एकता की अपील की। उनका कहना था कि अफगानिस्‍तान में मानवाधिकारों का सम्‍मान हो, मानवीय सहायता जारी रहे। उन्होंने कहा कि अफगानिस्‍तान को फिर से आंतकवाद का अड्डा नहीं बनने दिया जा सकता। संयुक्‍त राष्‍ट्र में अफगानिस्‍तान के प्रतिनिधि गुलाम इसाक जाई ने अंतरराष्‍ट्रीय बिरादरी से अपील की है कि अफगानिस्‍तान को गृह युद्ध में जाने से रोकने के प्रयास करें।



परिषद के सदस्‍यों ने अफगानिस्‍तान में आतंकवाद का मुकाबला करने की जरूरत जताते हुए कहा है कि अफगानिस्‍तान की धरती किसी भी दूसरे देश को धमकाने या उस पर हमला करने के लिए इस्‍तेमाल नहीं की जानी चाहिए, न ही तालिबान अथवा अन्‍य कोई और अफगानी गुट या व्‍यक्ति  को दूसरे देशों में सक्रिय आंतकवादियों को समर्थन देना चाहिए।

सभी सदस्य देशों ने अफगानिस्‍तान में संयुक्‍त राष्‍ट्र सहायता मिशन को पूरा समर्थन देने की बात दोहराई। उन्होंने संयुक्‍त राष्‍ट्र कर्मियों तथा संयुक्‍त राष्‍ट्र के सदस्‍य देशों के दूतावासों में तैनात कर्मियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने पर भी जोर दिया।

परिषद के महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने अफगानिस्‍तान पर अंतरराष्‍ट्रीय एकता की अपील की। उनका कहना था कि अफगानिस्‍तान में मानवाधिकारों का सम्‍मान हो, मानवीय सहायता जारी रहे। उन्होंने कहा कि अफगानिस्‍तान को फिर से आंतकवाद का अड्डा नहीं बनने दिया जा सकता। संयुक्‍त राष्‍ट्र में अफगानिस्‍तान के प्रतिनिधि गुलाम इसाक जाई ने अंतरराष्‍ट्रीय बिरादरी से अपील की है कि अफगानिस्‍तान को गृह युद्ध में जाने से रोकने के प्रयास करें। उन्‍होंने बताया कि काबुल में हत्‍याओं और महिलाओं के खिलाफ हिंसा की घटनाएं बढ़ रही हैं। जाई ने कहा कि परिषद और संयुक्‍त राष्‍ट्र ऐसे सभी कदम उठाएं जिनसे अफगानिस्‍तान को सबसे अलग होने से बचाया जा सके। संयुक्‍त राष्‍ट्र में रूस के राजदूत ने कहा कि अफगानिस्‍तान में शांति प्रक्रिया में क्षेत्रीय नेताओं की भागीदारी हो। उन्‍होंने बताया कि रूस इस प्रक्रिया में ईरान को श‍ामिल करना चाहता है। इस बीच, संयुक्‍त राष्‍ट्र में भारत के स्‍थायी प्रतिनिधि टी.एस. तिरुमूर्ति ने कहा कि अफगानिस्‍तान का पड़ोसी और मित्र होने के नाते भारत वहां की स्थिति से चिंतित है। भारत उम्मीद करता है वहां स्थिति जल्दी ही स्थिर होगी।
Follow Us on Telegram
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Aug 17 2021 14:18:21

रशिया अमेरिका का अफगानिस्तन में अजमाइश हो गया अब उभरता चीन की बारी है। चीन को चाहिए अफगानिस्तान में गृहयुद्ध को रोकने के लिये चाइनीज वायरस फैलाना कोरोना का मदद लेना चीन के पास इतना बड़ा जैविक हाथियार रहते चिंता किस बात की

Also read: सार्क से क्यों न तालिबान के मित्र पाकिस्तान को किया जाए बाहर ..

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा।

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा। सुनिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मा. जे. नंदकुमार को कल सुबह 10 बजे और सायं 5 बजे , फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब समेत अन्य सोशल मीडिया मंच पर।

Also read: भारत की तरक्की में सहयोग को तैयार अमेरिकी कंपनियां, निवेशकों के लिए बताया भारत को अनु ..

लड़कियों के स्कूल पर फोड़े बम, तालिबान से शह पाकर पाकिस्तान में भी लड़कियों की पढ़ाई पर नकेल कसना चाहते हैं जिहादी
चीनी हैकरों के निशाने पर भारत के मीडिया समूह, अमेरिकी साइबर सुरक्षा कंपनी ने किया दावा

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला

  अफगानिस्तान के 20 प्रांतों में 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों को अपने दफ्तर बंद करने पड़े हैं। वे अब न खबरें छापते हैं, न चैनल चलाते हैं   अफगानिस्तान बीते एक महीने के मजहबी उन्मादी तालिबान लड़ाकों के आतंकी राज में देश के 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों पर ताले लटक चुके हैं। उनके पास इतना पैसा नहीं रहा कि वे अपना काम चलाते रहें। तालिबान लड़ाकों की 'सरकार' ने आते ही सूचना के अधिकार की चिंदियां बिखेर दीं यानी 'सरकार' कब, क्या, कैसे कर रही है यह किसी को जान ...

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला