पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

आखिरी वक्त तक तालिबान से लोहा लेते रही थीं।

WebdeskAug 18, 2021, 03:22 PM IST

आखिरी वक्त तक तालिबान से लोहा लेते रही थीं।
अफगानिस्तान से प्यार करने वाली इस महिला ने तालिबान से लड़ने के लिए खुद हथियार उठाते हुए अपनी फौज भी बनाई थी। अपने संकल्प के अनुसार वेअपने फौजियों के साथ सलीमा मजारी (फाइल चित्र)


तालिबान ने पकड़ लिया सलीमा मजारी को, बर्बर जिहादियों के विरुद्ध हथियार उठाने वाली पहली महिला गवर्नर हैं सलीमा



सलीमा मजारी एक खुद्दार और दमदार महिला हैं जिन्हें आखिरकार तालिबान ने अपनी गिरफ्त में ले लिया है। सलीमा अफगानिस्तान में बल्ख के चारकिंत जिले में गवर्नर रही हैं। इस स्वाभिमानी और देश से प्यार करने वाली महिला ने तालिबान से लड़ने के लिए खुद हथियार उठाते हुए अपनी फौज भी बनाई थी। अपने संकल्प के अनुसार वे आखिरी वक्त तक तालिबान से लोहा लेते रही थीं।

काबुल पर कब्जा करके महिलाओं के सम्मान और उनके अधिकारों को सुरक्षित रखने की बात करने वाले मजहबी उन्मादी लड़ाकों ने अपनी पोल खुद ही खोल दी है। तालिबान एक तरह 'सबकी रजामंदी वाली सरकार' बनाने की कोशिश करता दिख रहा है तो दूसरी तरफ उन अफगानों को भी पकड़ रहा है जो हथियार उठाकर उसके खिलाफ उठ खड़े हुए थे। इसी हरकत को अंजाम देते हुए उसने सलीमा मजारी को पकड़ लिया है।

सलीमा वह खुद्दार अफगानी महिला हैं जिन्होंने तब जब अफगानिस्तान में तालिबान खूनखराबा मचा रहा था, दूसरे तमाम नेता देश छोड़कर भाग रहे थे या लड़ाकों के सामने घुटने टेक रहे थे, सलीमा अपने हमवतनों को बचाने के लिए हथियार लेकर खड़ी हुई थीं। वे गवर्नर थीं पर उन्होंने लोगों में हौसला जगाया और उन्हें हथियार थमाकर तालिबान से अपनी सबकी रक्षा के लिए फौज खड़ी की
 

सलीमा वह खुद्दार अफगानी महिला हैं जिन्होंने तब जब अफगानिस्तान में तालिबान खूनखराबा मचा रहा था, दूसरे तमाम नेता देश छोड़कर भाग रहे थे या लड़ाकों के सामने घुटने टेक रहे थे, सलीमा अपने हमवतनों को बचाने के लिए हथियार लेकर खड़ी हुई थीं। वे गवर्नर थीं पर उन्होंने लोगों में हौसला जगाया और उन्हें हथियार थमाकर तालिबान से अपनी सबकी रक्षा के लिए फौज खड़ी की। उन्होंने खुलेआम लोगों से साथ जुड़ने की अपील की। अपने लोगों को बचाने की खातिर तालिबान से कड़ा मुकाबला किया।

उनकी हिम्मत को देखकर उनकी फौज में शामिल लोगों ने अपनी जमीनें और पशु बेचकर हथियार खरीदे। सलीमा खुद गाड़ी में बैठकर जगह-जगह जाकर लोगों में जोश जगामी थीं।
उनसे पहले तालिबान ने उनसे लोहा लेने वाले इस्माइल खान को पकड़ा था।


Follow Us on Telegram

Comments

Also read: पाकिस्तान के पोसे खालिस्तानी संगठन जड़ें जमा रहे अमेरिका में, हडसन इंस्टीट्यूट की रपट ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: हक्कानी से जान का खतरा जान, मुल्ला बरादर काबुल से गया कंधार ..

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग
बेटे से 'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगवाने वाला गया जेल

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें

वेब डेस्क   तालिबान के बुर्के, हिजाब के फरमान के विरुद्ध पारंपरिक अफगानी परिधानों में अपनी एक से एक तस्वीरें साझा कीं। तालिबानी मुल्लाओं और उनकी मध्ययुगीन सोच के विरुद्ध यह अनोखा विरोध प्रदर्शन दुनियाभर के लोगों को रास आ रहा है। उन्होंने इन महिलाओं के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया है। स्वाभिमानी अफगान महिलाओं ने शरीयती तालिबान और उनके हिजाब व बुर्के के फरमान की धज्जियां उड़कर रख दी हैं। विदेशों में बसीं अनेक अफगान महिलाएं 13 सितम्बर को सोशल मीडिया पर छाई रहीं। उन्होंने तालि ...

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें