पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

पाकिस्तान की कट्टर मजहबी सरकार ने रिहा किया 5 साल से बंद मुल्ला मोहम्मद रसूल, तालिबान के साथ साठगांठ का एक और सबूत

WebdeskAug 19, 2021, 02:25 PM IST

पाकिस्तान की कट्टर मजहबी सरकार ने रिहा किया 5 साल से बंद मुल्ला मोहम्मद रसूल, तालिबान के साथ साठगांठ का एक और सबूत
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (बाएं) और छोड़ा गया आतंकी मुल्ला रसूल


पाकिस्तान तालिबान को कथित खाद-पानी तो पहुंचा ही रहा है, उनकी हरसंभव मदद भी कर रहा है। अपनी इसी हरकत पर आगे बढ़ते हुए पाकिस्तान सरकार ने आतंकी मुल्ला को रिहा किया है


पाकिस्तान की इमरान खान सरकार किस हद तक तालिबान के साथ एक ही पाले में बैठी है इसका ताजा उदाहरण है 18 अगस्त को मुल्ला रसूल की पाकिस्तान जेल से रिहाई। कभी तालिबान का बड़ा जिहादी माना जाने वाला मुल्ला रसूल, मुल्ला अख्तर मंसूर के तालिबान का प्रमुख बनने पर ऐसा चिढ़ा था कि उसने अपना अलग गुट बना लिया था। उसे 2016 से पाकिस्तान ने जेल में बंद किया हुआ था।

 


तालिबान के काबुल पर कब्जा कर लेने के बाद पाकिस्तान उन जिहादियों को कथित खाद—पानी तो पहुंचा ही रहा है, उनकी हरसंभव मदद भी कर रहा है। अपनी इसी हरकत पर आगे बढ़ते हुए पाकिस्तान सरकार ने आतंकी मुल्ला को रिहा किया है। मुल्ला को मार्च 2016 में बलूचिस्तान सूबे से पकड़ा गया था। रॉयटर्स की मानें तो मुल्ला कभी तालिबान नेताओं का नजदीकी था पर फिर मुल्ला अख्तर मंसूर तालिबान का सरगना बन गया तो उसने छिटक कर अपना अलग गुट बना लिया। फिर उसे पाकिस्तान में पकड़कर जेल में बंद कर दिया गया। पांच साल से वह जेल में कैद था। 

 

पाकिस्तान सरकार ने आतंकी मुल्ला को रिहा किया है। इससे पहले तालिबान ने बगराम जेल से पाकिस्तान में तालिबान की तर्ज पर चलने वाले जिहादी गुट तहरीके तालिबान पाकिस्तान यानी टीटीपी के एक हजार जिहादी छोड़े थे। साफ संकेत मिले हैं कि पाकिस्तान का यह तालिबानी गुट अफगानिस्तानी तालिबान के साथ खुलकर एकजुटता दिखाने लगा है।


खबरों के अनुसार, रसूल का साथ देने वाले जिहादियों को लगता था कि मंसूर लालच में आकर पाकिस्तान के इशारे पर काम करने लगा था। तालिबान को पैदा करने वाले मुल्ला उमर की मौत होने पर रसूल तथा मंसूर दोनों ही तालिबान के सरगना होने का दावा ठोंक रहे थे।


बहरहाल, उधर तालिबान ने भी अफगानिस्तान की बगराम जेल से एक हजार पाकिस्तानी जिहादियों को छोड़ कर अपनी तरफ से जिहादी जमात को खुश करने की कोशिश की ही थी। बगराम जेल से छुड़ाए गए जिहादी हत्यारे पाकिस्तान में तालिबान की तर्ज पर चलने वाले जिहादी गुट तहरीके तालिबान पाकिस्तान यानी टीटीपी के हैं।


साफ संकेत मिले हैं कि पाकिस्तान का यह तालिबानी गुट अफगानिस्तानी तालिबान के साथ खुलकर एकजुटता दिखाने लगा है। समा न्यूज की एक खबर है कि काबुल की बगराम जेल से छोड़े गए जिहादी गुट टीटीपी के एक हजार जिहादियों में मौलाना फाकिर मुहम्मद भी है, जो टीटीपी नंबर दो का सरगना रह चुका है।

Follow Us on Telegram
 

 
 

Comments

Also read: पाकिस्तान के पोसे खालिस्तानी संगठन जड़ें जमा रहे अमेरिका में, हडसन इंस्टीट्यूट की रपट ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: हक्कानी से जान का खतरा जान, मुल्ला बरादर काबुल से गया कंधार ..

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग
बेटे से 'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगवाने वाला गया जेल

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें

वेब डेस्क   तालिबान के बुर्के, हिजाब के फरमान के विरुद्ध पारंपरिक अफगानी परिधानों में अपनी एक से एक तस्वीरें साझा कीं। तालिबानी मुल्लाओं और उनकी मध्ययुगीन सोच के विरुद्ध यह अनोखा विरोध प्रदर्शन दुनियाभर के लोगों को रास आ रहा है। उन्होंने इन महिलाओं के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया है। स्वाभिमानी अफगान महिलाओं ने शरीयती तालिबान और उनके हिजाब व बुर्के के फरमान की धज्जियां उड़कर रख दी हैं। विदेशों में बसीं अनेक अफगान महिलाएं 13 सितम्बर को सोशल मीडिया पर छाई रहीं। उन्होंने तालि ...

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें