पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

पानी को तरस गए हैं पाकिस्तानी, मंत्री ने असेम्बली में बताया, दो प्रतिशत शहरों में बचा है पीने लायक पानी

WebdeskAug 11, 2021, 04:00 PM IST

पानी को तरस गए हैं पाकिस्तानी, मंत्री ने असेम्बली में बताया, दो प्रतिशत शहरों में बचा है पीने लायक पानी


अफगानिस्तान में तालिबान का साथ देने के लिए जिहादी हत्यारे भेजने में व्यस्त पाकिस्तानी हुकूमत अपने यहां सूखे की बनती जा रही परिस्थिति से बेखबर है। बड़े-बड़े शहरों में लोग पीने के पानी को तरस रहे हैं


पाकिस्‍तान में इन दिनों पानी के लिए हाहाकार मचा है। कई शहरों में पानी की भारी किल्लत है, लोग बूंद-बूंद पानी को तरस रहे हैं। सूखे की मार के कयास लगाए जा रहे हैं। जानकारों का कहना है कि पानी के लिहाज से पाकिस्तान में आने वाले दिन मुसीबत लेकर आएंगे, अगर समय रहते कोई कदम नहीं उठाया गया तो।
एएनआई की खबर है कि पाकिस्तान में पानी की इतनी कमी है कि वहां सूखा पड़ सकता है।

पाकिस्‍तान में स्थितियां लगातार बिगड़ रही है। हैरानी की बात है कि बिजली आपूर्ति भी डगमगाई हुई है। पानी का हाल तो इतना बुरा है कि बड़े से बड़े शहर पानी को तरस रहे हैं। उधर कई शहरों से पानी के जो नमूने लिए गए हैं वे उसे सीवर सरीखा ठहराते हैं, वहां का पानी इंसानों के पीने लायक नहीं पाया गया है।
ज्यादातर शहरों में तो पिछले कई दिनों से पानी ही नहीं नहीं हो रहा है या जहां यह मिल रहा है वहां इतना कम है कि जरूरतें भी पूरी नहीं हो रही हैं। इमरान सरकार की तरफ से कल नेशनल असेंबली में इस मुद्दे से जुड़े कुछ आंकड़े सामने रखे। उनको देखकर हालात की बड़ी डरावनी तस्वीर झलकती है। पाकिस्‍तान के साइंस एंड टेक्नोलॉजी मंत्री शिबली फराज ने जब असेंबली में जो कुछ आंकड़े पेश किए गए, वे असल में विपक्ष की तरफ से पूछे गए सवालों के जवाब का हिस्सा थे। विपक्ष कई दिनों से सरकार को घेरता आ रहा है कि ज्यादातर शहरों में पानी नहीं पहुंच रहा है, जहां पहुंच रहा है, वहां सिर्फ नाम के लिए। पानी की कमी की सूरत में जल विशेषज्ञों ने खबरदार किया है कि अगा यही हाल रहता है तो पाकिस्तान सूखे की चपेट में आ सकता है।


देश में कई शहरों में भूमिगत पानी की जांच से पता चला है कि उनमें 10 प्रतिशत से ज्यादा में पानी इंसानों के इस्‍तेमाल लायक नहीं रहा है। जल की विशेषज्ञ संस्था पीसीआरडब्‍ल्‍यूआर की रिपोर्ट में कहा गया है कि सिंध तथा गिलगिट के मीरपुरखास, शहीद बेनजीरबाद (नवाबशाह) में तो पानी सौ प्रतिशत पीने लायक नहीं है।
 

सरकार की तरफ से असेंबली में रखी रिपोर्ट बताती है कि देश में 29 शहरों में भूमिगत पानी की जांच से पता चला है कि उनमें से 20 शहरों में पानी इंसानों के इस्‍तेमाल लायक नहीं रहा है। जल की विशेषज्ञ संस्था पीसीआरडब्‍ल्‍यूआर की रिपोर्ट में कहा गया है कि सिंध तथा गिलगिट के मीरपुरखास, शहीद बेनजीरबाद (नवाबशाह) में तो पानी सौ प्रतिशत पीने लायक नहीं है। इसके साथ ही, सियालकोट में करीब नौ जगहों से लिए गए पानी के नमूने पेयजल के हिसाब से पूरी तरह से ठीक पाए गए हैं।
राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा के असेंबली सचिव डाक्‍टर नौशीन हामिद का कहना है कि पाकिस्‍तान में प्रति व्‍यक्ति मिलने वाले पानी का पैमाना लगभग 400 प्रतिशत तक गिर चुका है। दैनिक डान ने हामिद का बयान देते हुए छापा है कि ये बहुत ही चिंता की बात है। बता दें कि पाकिस्‍तान दुनिया का पांचवां सबसे घनी आबादी वाला देश है। पानी की हालत ऐसी है कि इस पर गंभीर रूप से सोचना होगा। 2025 में ये समस्या और गहरा जाएगी। लोगों को पानी मिलना मुश्किल हो जाएगा और जो मिलेगा वह इस्‍तेमाल लायक नहीं होगा।

Follow Us on Telegram

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Aug 12 2021 09:36:03

bemot marega papi Pakistan

Also read: सार्क से क्यों न तालिबान के मित्र पाकिस्तान को किया जाए बाहर ..

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा।

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा। सुनिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मा. जे. नंदकुमार को कल सुबह 10 बजे और सायं 5 बजे , फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब समेत अन्य सोशल मीडिया मंच पर।

Also read: भारत की तरक्की में सहयोग को तैयार अमेरिकी कंपनियां, निवेशकों के लिए बताया भारत को अनु ..

लड़कियों के स्कूल पर फोड़े बम, तालिबान से शह पाकर पाकिस्तान में भी लड़कियों की पढ़ाई पर नकेल कसना चाहते हैं जिहादी
चीनी हैकरों के निशाने पर भारत के मीडिया समूह, अमेरिकी साइबर सुरक्षा कंपनी ने किया दावा

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला

  अफगानिस्तान के 20 प्रांतों में 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों को अपने दफ्तर बंद करने पड़े हैं। वे अब न खबरें छापते हैं, न चैनल चलाते हैं   अफगानिस्तान बीते एक महीने के मजहबी उन्मादी तालिबान लड़ाकों के आतंकी राज में देश के 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों पर ताले लटक चुके हैं। उनके पास इतना पैसा नहीं रहा कि वे अपना काम चलाते रहें। तालिबान लड़ाकों की 'सरकार' ने आते ही सूचना के अधिकार की चिंदियां बिखेर दीं यानी 'सरकार' कब, क्या, कैसे कर रही है यह किसी को जान ...

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला