पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

देश की स्वाधीनता से बढ़कर कुछ भी नहीं -- योगी

WebdeskAug 10, 2021, 01:43 PM IST

देश की स्वाधीनता से बढ़कर कुछ भी नहीं -- योगी


काकोरी ट्रेन ऐक्शन की 97 वीं वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने सोमवार को कहा कि “ देश की स्वाधीनता से बढ़कर कुछ भी नहीं हो सकता है. देश की आजादी को हर हाल में सुरक्षित रखना हर भारतीय का दायित्व बनता है. देश की आजादी का यह अमृत महोत्सव हम सबको आगे बढ़ने के लिए प्रेरित कर रहा है.


मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि भारत माता के सभी महान सपूतों को जिन्होंने देश की आजादी के लिए अपने आप को बलिदान किया, जिन्होंने स्वतंत्र भारत में देश के विभिन्न युद्धों में देश की आंतरिक और बाह्य दोनों मोर्चे पर पूरी मजबूती से सुरक्षा की. उन सभी को मेरा कोटि-कोटि नमन है.

 

उन्होंने कहा कि हम लोगों ने 4 फरवरी 2021 को गोरखपुर से चौरी चौरा काण्ड के शताब्दी समारोह का आरंभ किया. उत्तर प्रदेश में चौरी चौरा की घटना के साथ ही आजादी के अमृत महोत्सव का भव्य आयोजन प्रधानमंत्री मोदी जी ने साबरमती आश्रम से प्रारंभ किया था.  12 मार्च 2021 से प्रारंभ यह अमृत महोत्सव 75 सप्ताह तक चलने वाला आयोजन है. हम सब जानते हैं कि ब्रिटिश हुकूमत ने इस देश के स्वाधीनता संग्राम सेनानियों,क्रांतिकारियों के साथ किस किस प्रकार का अत्याचार किया था. काकोरी ट्रेन एक्शन के मामले ने कहा जाता है कि क्रांतिकारियों ने अपने स्वाधीनता आंदोलन को आगे बढ़ाने के लिए यहां पर जिस घटना को अंजाम दिया था उसमें उनके हाथ केवल 4,600 रुपए लगे थे लेकिन अंग्रेजों ने देश के क्रांतिकारियों के खिलाफ कार्यवाही ,मुकदमे चलाने और उन्हें फांसी पर लटकाने तक जो धनराशि उस समय खर्च की थी वह 10 लाख थी. क्रूरता की यह कहानी हम सब की आंखें खोलने वाली है. यह हमें इस बात का एहसास कराता है कि देश की स्वाधीनता से बढ़कर के कुछ नहीं हो सकता है.

 

Comments

Also read: ईसाई न बनने पर छोटे भाई ने बड़े भाई को घर से किया बाहर ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: झारखंड से योजनाओं का शुभारंभ करने वाले कर्मयोगी ..

बेरोजगारी में सड़कों के गड्ढे गिन रहीं है  मायावती--- सुरेश खन्ना
टिकट चाहिए तो भरिये फार्म, दीजिये 11 हजार का शगुन, कांग्रेस हाई कमान का गजब आदेश

यूपी—दिल्ली में पकड़े गए आतंकियों के घरों तक पहुंची जांच एजेंसियां

पश्चिम उत्तर प्रदेश डेस्क दिल्ली एवं उत्तर प्रदेश से आतंकियों के पकड़े जाने के बाद जांच एजेंसियां आतंकियों के घरों तक पहुंच रही हैं। इसी कड़ी में अमरोहा स्थित गजरौला इलाके के खालीपुर और खुगावली गांवों में सुरक्षा एजेंसियों द्वारा जानकारी जुटाने की खबरे हैं। दिल्ली एवं उत्तर प्रदेश से आतंकियों के पकड़े जाने के बाद जांच एजेंसियां आतंकियों के घरों तक पहुंच रही हैं। इसी कड़ी में अमरोहा स्थित गजरौला इलाके के खालीपुर और खुगावली गांवों में सुरक्षा एजेंसियों द्वारा जानकारी जुटाने की खबरे हैं ...

यूपी—दिल्ली में पकड़े गए आतंकियों के घरों तक पहुंची जांच एजेंसियां