संघ

‘‘परिवर्तन शाश्वत नियम है’’

WebdeskJul 19, 2021, 05:26 PM IST

‘‘परिवर्तन शाश्वत नियम है’’

चित्रकूट में दीनदयाल शोध संस्थान के कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन करते श्री मोहनराव भागवत


गत 13 जुलाई को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक श्री मोहनराव भागवत ने चित्रकूट स्थित दीनदयाल शोध संस्थान के सभी प्रकल्पों के प्रभारियों और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वावलंबन अभियान का काम देख रहे समाजशिल्पी दंपतियों का मार्गदर्शन किया। वर्तमान बदलती की परिस्थितियों के संबंध में कार्यकर्ताओं द्वारा पूछे गए एक सवाल के उत्तर में उन्होंने कहा कि समय के अनुसार सबको बदलना होता है।

आकांक्षाएं तो पहले भी थीं। यह समाज में चलने वाली मानसिक प्रक्रिया है। कई बातों को तो कोरोना की परिस्थितियों ने बता दिया। ऐसी बातों को पहचानना होगा। उसमें जो शाश्वत है, सत्य है, वही चिरंतन है, वही टिकाऊ है। जो असत्य है, वह सत्य की कसौटी पर टिकने वाला नहीं है। अपने परिवार का पालन- पोषण किस तरह करना, समाज की व्यवस्था किस तरह चले, सृष्टि ठीक रहे, यह एक अपना तरीका अपने पास है, भारत के पास है।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण एवं वनवासी क्षेत्रों में संस्कार अभी भी बचे हैं, लेकिन शहरी क्षेत्रों में आधुनिक शिक्षा के कारण कुछ गिरावट आई है। हमें समझना होगा कि संस्कार और शिक्षा दोनों जरूरी हैं। इसीलिए समाज को प्रबुद्ध बनाना चाहिए। उन्होंने आयुर्वेद का उदाहरण देते हुए कहा कि काल की कसौटी पर जो आयुर्वेद में है, वह एलोपैथी में नहीं है। इसका मतलब यह नहीं है कि एलोपैथी ठीक नहीं है, उसका भी एक अपना विशेष महत्व है। इस अवसर पर अनेक गणमान्यजन उपस्थित थे।

Follow Us on Telegram

 

Comments

Also read: "मुस्लिम समुदाय की योजनाबद्ध तरीके से बढ़ी आबादी" ..

Stan Swamy की कब, कैसे और क्यों हुई मौत....हकीकत जानें| Reason Behind Stan Swamy Death | Latest News

Stan Swamy की कब, कैसे और क्यों हुई मौत....हकीकत जानें| Reason Behind Stan Swamy Death | Latest News Stan Swamy की मौत पर आखिर बवाल क्यों ? कौन थे स्टेन स्वामी और उनकी पर पर मीडिया का एक दल और कांग्रेस, वामपंथी समेत कई विपक्षी दल सरकार को क्यों घेर रहे हैं. उस स्टेन स्वामी की जरा हकीकत भी जान लें. #Panchjanya #StanSwamy #StanDeathCase...

Also read: मेवात के हिन्दुओं को ‘पलायन नहीं पराक्रम’ दिखाना होगा ..

विहिप की मांग : अवैध कन्वर्जन के विरुद्ध केंद्र सरकार कानून बनाए
17 और 18 जुलाई को फरीदाबाद में विहिप की प्रबंध समिति व प्रन्यासी मण्डल की बैठक

समानता-समावेश का हिन्दू विचार

 जे. नंदकुमार  हिंदुत्व ऐसी विचारधारा है जो विभिन्न आस्थाओं के बीच अंतर का प्रचार या महिमामंडन करने के बजाय उनका पालन करने वाले विभिन्न भारतीय समुदायों में मौजूद समानताओं का आदर करती है। हमारा लक्ष्य समरूपता नहीं, बल्कि समावेश है। सदियों से भारत में यही भाव बना रहा है    भारत में धर्म का उद्देश्य किन्हीं खास मत—मतों को बौद्धिक स्वीकृति देना या मानव जाति के बीच समरूपता स्थापित करना नहीं, बल्कि विविधता में समान भावों का गुलदस्ता संजोना है। उपनिषद् में कहा गया ह ...

समानता-समावेश का हिन्दू विचार