पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

जम्मू—कश्मीर: इस्लामिक जिहादियों ने एक और राष्ट्र भक्त सरपंच गुलाम रसूल डार और पत्नी जवाहिरा की हत्या कर दी

WebdeskAug 10, 2021, 12:52 PM IST

जम्मू—कश्मीर: इस्लामिक जिहादियों ने एक और राष्ट्र भक्त सरपंच गुलाम रसूल डार और पत्नी जवाहिरा की हत्या कर दी

अश्वनी मिश्र


 

जम्मू-कश्मीर स्थित अनंतनाग के लाल चौक इलाके में सोमवार को आतंकियों ने एक बार फिर कायराना हरकत की। इस दौरान आतंकियों ने कुलगाम के सरपंच गुलाम रसूल डार और उनकी पत्नी जवाहिरा की हत्या कर दी


अनुच्छेद 370 हटने की दूसरी वर्षगांठ पर समूचे जम्मू—कश्मीर में उत्सव जैसा माहौल दिखाई दिया था। अकेले जम्मू में ही नहीं घाटी के विभिन्न इलाकों में लोग सड़कों पर निकले थे, तिरंगा लहराया था, कार्यक्रम किए, भारत माता की जय के उदृघोष के साथ खुशी जाहिर की थी। कुलगाम, भाजपा किसान मोर्चा के अध्यक्ष एवं सरपंच गुलाम रसूल डार भी ऐसी ही एक तिरंगा रैली में शामिल हुए थे। घाटी के आवाम को मुख्य धारा में शामिल होते देख यकीनन आतंकियों और उनके आकाओं की छाती पर सांप लोट गए थे। घाटी में आती अमन—शांति और सामान्य होते हालात भला उन्हें कैसे अच्छे लग सकते हैं। उनकी दुकान तो खून—खराबे से चलती है। कश्मीर के आवाम का खून बहाकर वह अपनी उपस्थित दिखाते हैं और राज्य के लोगों को डराने—धमकाने की कोशिश करते हैं। सोमवार को भी अनंतनाग में आतंकियों ने इसी तरीके की कायराना हरकत को अंजाम दिया। इस दौरान कुलगाम के सरपंच गुलाम रसूल डार और उनकी पत्नी जवाहिरा बानो को आतंकियों ने निशाना बनाया। आतंकियों ने अनंतनाग के लाल चौक इलाके में उनके घर में घुसकर अंधाधुंध फायरिंग की। हमले में दोनों लोग गंभीर रूप से घायल हो। आनन—फानन में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

खबरों के अनुसार हत्या दोपहर 3 बजे के बाद उस समय हुई, जब गुलाम रसूल अपनी पत्नी के साथ घर पर ही थे। इस दौरान तीन लोग किसी चर्चा के बहाने उनके घर आ धमके। गुलाम रसूल के सुरक्षाकर्मी उस समय वहां उपस्थित नहीं थे। इसी का फायदा उठाते हुए आतंकियों ने अंधाधुंध गोलियां चलानी शुरू कर दीं। जवाहिरा गोलियों की आवाज सुनते ही कमरे की तरफ भागी तो आतंकियों ने उन्हें भी देखते ही गोली मार दी और मौके से फरार हो गए। सूचना मिलते ही सुरक्षाबलों ने हमलावरों को पकड़ने के लिए इलाके की घेराबंदी करके सर्च ऑपरेशन शुरू किया है। हत्या की जिम्मेदारी आतंकी संगठन टीआरएफ ने ली है। इसी बीच गुलाम रसूल की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी को निलंबित कर दिया गया है।

गौरतलब है कि सरपंच गुलाम रसूल डार कुलगाम, भाजपा किसान मोर्चा के अध्यक्ष भी थे। पति—पत्नी ने साल, 2018 में हुए पंचायत चुनाव में हिस्सा लिया था, जिसमें गुलाम सरपंच और उनकी पत्नी जवाहिरा पंच चुनी गई थीं।

हमलावर आतंकवादियों पर होगी कड़ी कार्रवाई
घटना के बाद जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने ट्वीट कर गुलाम रसूल डार और पत्नी जवाहिरा बानो पर हुए आतंकवादी हमले कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा कि यह कायरतापूर्ण कृत्य है और हिंसा के लिए हमलावर आतंकवादियों पर जल्द ही कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस दुख की घड़ी में वह शोक संतृप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हैं।
 

 

Follow Us on Telegram

Comments

Also read: श्रीनगर में 4 आतंकियों समेत 15 OGW मौजूद, सर्च ऑपरेशन जारी ..

Kejriwal के हिंदू आबादी में Haj House बनाने के विरोध में 28 गांवों की खाप पंचायतें

Kejriwal के हिंदू आबादी में Haj House बनाने के विरोध में 28 गांवों की खाप पंचायतें
#Panchjanya #Kejriwal #DelhiHajhouse

Also read: संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भारत ने पाकिस्तान सहित OIC को लगाई लताड़ ..

पाकिस्तानी एजेंटों को गोपनीय सूचनाएं दे रहे थे DRDO के संविदा कर्मचारी, पुलिस ने किया गिरफ्तार
IED टिफिन बम मामले में पकड़े गए चार आतंकी, पंजाब हाई अलर्ट पर

उत्तराखंड: उधम सिंह नगर में बढ़ती मुस्लिम आबादी, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने के प्रयास तेज

दिनेश मानसेरा उत्तराखंड स्थित उधमसिंह नगर जिले में हरिद्वार के बाद सबसे तेजी से मुस्लिम आबादी बढ़ रही है। आंकड़ों के मुताबिक उधमसिंह नगर में करीब 7 लाख मुस्लिम आबादी 2022 तक हो जाएगी। राज्य में यूं मुस्लिम आबादी का बढ़ना, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने जैसा हो जाएगा। उत्तराखंड स्थित उधमसिंह नगर जिले में हरिद्वार के बाद सबसे तेजी से मुस्लिम आबादी बढ़ रही है। आंकड़ों के मुताबिक उधमसिंह नगर में करीब 7 लाख मुस्लिम आबादी 2022 तक हो जाएगी। बता दें कि उधमसिंह नगर राज्य का मैदानी जिला है। भगौलिक ...

उत्तराखंड: उधम सिंह नगर में बढ़ती मुस्लिम आबादी, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने के प्रयास तेज