पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

बुंदेलखंड में टिकैत की महापंचायत फेल

WebdeskSep 15, 2021, 12:10 PM IST

बुंदेलखंड में टिकैत की महापंचायत फेल

सुनील राय
 


 उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक है.  इस वक्त यूपी में नए- नए राजनीतिक प्रयोग हो रहे हैं.  इन दिनों यूपी में असदुद्दीन ओवैसी और राकेश टिकैत भी निकल पड़े हैं. गत दिनों हमीरपुर के मुस्लिम बाहुल्य  इलाके  में राकेश टिकैत ने महापंचायत का आयोजन किया मगर यह पंचायत पूरी तरह फेल हो गई. बुंदेलखंड क्षेत्र में जनाधार बढ़ाने निकले टिकैत को काफी झटका लगा.



बुंदेलखंड के हमीरपुर जिले के मौदहा की मंडी समिति में यह किसान महापंचायत आयोजित की गई. पंचायत के लिए तय वक्त के ठीक 1 घंटे पहले इस आयोजन स्थल में नाम मात्र के किसान नजर आए. राकेश टिकैत की किसान महापंचायत शुरू हुई तो वहां सिर्फ वही लोग नजर आ रहे थे जो उनके साथ ट्रैक्टर में बैठ करके आये थे. हरी टोपी लगाए हुए समर्थकों ने उनके मंच के आगे बैठकर भीड़ बढ़ाने की कोशिश की मगर वहां के स्थानीय किसान इस महापंचायत में शामिल नहीं हुए.


टिकैत ने इस  किसान महापंचायत में भाषण तो खूब जमकर दिया मगर सब कुछ ऐसा लगा जैसे पहले से पटकथा लिखी हुई हो. उन्होंने किसानों की तमाम समस्याएं गिनाई और उसके लिए प्रदेश और केंद्र की सरकार को जिम्मेदार ठहराने का प्रयास किया. बुंदेलखंड की अन्ना पशुओं की समस्या,  जल संकट से लेकर बेरोजगारी तक सब गिना डाला और और सब का ठीकरा योगी सरकार पर फोड़ दिया. वैसे टिकैत के भाषण में बुंदेलखंड से ज्यादा दिल्ली और हरियाणा हावी रहा.
     

हमीरपुर का राठ और चरखारी इलाका धुर किसानों वाला इलाका माना जाता है लेकिन राठ और चरखारी को छोड़कर मुस्लिम बाहुल्य कस्बा मौदहा में आयोजन टिकैत को ज्यादा ठीक लगा.  उनके इस आयोजन स्थल के चयन से ही इस किसान पंचायत का बंटाधार हो गया. स्थानीय लोगों ने बताया कि किसान महापंचायत की भीड़ में सबसे बड़ी संख्या समाजवादी पार्टी के समर्थकों की थी. ये सभी लोग आस-पास की बस्तियों से आए हुए गैर किसान थे और उनमे अधिकतर मुस्लिम थे.  अपनी खेती किसानी और रोजी-रोटी में लगा रहने वाला बुंदेलखंड का किसान उस महापंचायत में नदारद था.

Follow Us on Telegram
 

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Sep 15 2021 13:33:58

kya khoob kahi

Also read: ईसाई न बनने पर छोटे भाई ने बड़े भाई को घर से किया बाहर ..

Kejriwal के हिंदू आबादी में Haj House बनाने के विरोध में 28 गांवों की खाप पंचायतें

Kejriwal के हिंदू आबादी में Haj House बनाने के विरोध में 28 गांवों की खाप पंचायतें
#Panchjanya #Kejriwal #DelhiHajhouse

Also read: झारखंड से योजनाओं का शुभारंभ करने वाले कर्मयोगी ..

बेरोजगारी में सड़कों के गड्ढे गिन रहीं है  मायावती--- सुरेश खन्ना
टिकट चाहिए तो भरिये फार्म, दीजिये 11 हजार का शगुन, कांग्रेस हाई कमान का गजब आदेश

यूपी—दिल्ली में पकड़े गए आतंकियों के घरों तक पहुंची जांच एजेंसियां

पश्चिम उत्तर प्रदेश डेस्क दिल्ली एवं उत्तर प्रदेश से आतंकियों के पकड़े जाने के बाद जांच एजेंसियां आतंकियों के घरों तक पहुंच रही हैं। इसी कड़ी में अमरोहा स्थित गजरौला इलाके के खालीपुर और खुगावली गांवों में सुरक्षा एजेंसियों द्वारा जानकारी जुटाने की खबरे हैं। दिल्ली एवं उत्तर प्रदेश से आतंकियों के पकड़े जाने के बाद जांच एजेंसियां आतंकियों के घरों तक पहुंच रही हैं। इसी कड़ी में अमरोहा स्थित गजरौला इलाके के खालीपुर और खुगावली गांवों में सुरक्षा एजेंसियों द्वारा जानकारी जुटाने की खबरे हैं ...

यूपी—दिल्ली में पकड़े गए आतंकियों के घरों तक पहुंची जांच एजेंसियां