पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

भोजपुरी और मगही से झारखंड का 'बिहारीकरण', तो उर्दू से क्या 'इस्लामीकरण' की तैयारी!

WebdeskSep 15, 2021, 06:33 PM IST

भोजपुरी और मगही से झारखंड का 'बिहारीकरण', तो उर्दू से क्या 'इस्लामीकरण' की तैयारी!
एक चुनाव प्रचार के दौरान भोजपुरी की एक कलाकार से गाना गंवाते हेमंत सोरेन (बाएं)

    रितेश कश्यप
    झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा है कि भोजपुरी और मगही से झारखंड का 'बिहारीकरण' नहीं होने दिया जाएगा! इस पर भाजपा ने पूछा है कि तो क्या राज्य सरकार उर्दू को बढ़ावा देकर राज्य का 'इस्लामीकरण' करने की तैयारी कर रही है!


इन दिनों पूरा झारखंड राज्य सरकार के विवादास्पद फैसलों के लिए चर्चा के केंद्र में रह रहा है। कभी झारखंड विधानसभा में नमाज के लिए कक्ष आवंटित किया जाता है, तो कभी हिंदी और संस्कृत को हटाकर उर्दू को द्वितीय भाषा का दर्जा दे दिया जाता है।

अब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भोजपुरी और मगही को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि भोजपुरी और मगही दोनों बिहार की भाषा है, झारखंड की नहीं है। उन्होंने यह भी कहा है, ''भोजपुरी और मगही बोलने वाले झारखंड आंदोलन के दौरान आंदोलनकारियों को भोजपुरी में गालियां दिया करते थे।''

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा है, ''महिलाओं की इज्जत लूटने वाले भोजपुरी में ही गालियां देते हैं। झारखंड में इन भाषाओं को बोलने वाले मूल निवासियों का भी अपमान करने में गुरेज नहीं करते।''

मुख्यमंत्री के इस बयान के बाद उनका एक वीडियो पूरे झारखंड में वायरल हो गया है। उसमें वे  एक चुनाव प्रचार के दौरान भोजपुरी में लोगों को उनके नाम का गाना सुनवाते दिख रहे हैं, ताकि लोगों को लगे कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भोजपुरी भाषा का सम्मान करते हैं।

    मुख्यमंत्री के इस बयान के बाद झारखंड में राजनीतिक भूचाल आ गया है। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने हेमंत सोरेन की तुलना अंग्रेजों से करते हुए कहा है, ''मुख्यमंत्री बांटो और राज करो की नीति से राज्य चलाना चाहते हैं। जो मुख्यमंत्री अपनी जनता में भी भेद कर सकता है वह मुख्यमंत्री के योग्य ही नहीं है।''

    इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगर हेमंत सोरेन को भोजपुरी और मगही बाहरी भाषा लगती है तो क्या उर्दू उनको अपनी भाषा लगती है! उन्होंने यह भी कहा कि यदि भोजपुरी और मगही से झारखंड का 'बिहारीकरण' होगा, तो उर्दू से झारखंड का 'इस्लामीकरण' की तैयारी तो नहीं की जा रही!

    वहीं, मुख्यमंत्री की इन बातों से कांग्रेस ने पल्ला झाड़ लिया है। कांग्रेसी नेताओं ने यह कहा है कि मगही, भोजपुरी और अंगिका भाषा झारखंड की है, लेकिन अगर मुख्यमंत्री ने कोई बात कही है तो उन्हें कोई संस्मरण याद आ गया होगा।

    सत्तारूढ़ नेता भले ही कुछ कहें, लेकिन झारखंड के लोगों में इन बातों से नाराजगी बढ़ रही है।  सामाजिक कार्यकर्ता गोपाल मंडल कहते हैं, ''झारखंड का यह दुर्भाग्य ही है कि मुख्यमंत्री होते हुए भी हेमंत सोरेन राज्य के लोगों के बीच दूरियां बढ़ाने का काम कर रहे हैं। हो सकता है कि इसका उन्हें राजनीतिक लाभ मिल जाए, पर राज्य में लोगों के बीच मनमुटाव बढ़ेगा। यह किसी के लिए भी ठीक नहीं होगा।''

 

Comments

Also read: श्रीनगर में 4 आतंकियों समेत 15 OGW मौजूद, सर्च ऑपरेशन जारी ..

Kejriwal के हिंदू आबादी में Haj House बनाने के विरोध में 28 गांवों की खाप पंचायतें

Kejriwal के हिंदू आबादी में Haj House बनाने के विरोध में 28 गांवों की खाप पंचायतें
#Panchjanya #Kejriwal #DelhiHajhouse

Also read: संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भारत ने पाकिस्तान सहित OIC को लगाई लताड़ ..

पाकिस्तानी एजेंटों को गोपनीय सूचनाएं दे रहे थे DRDO के संविदा कर्मचारी, पुलिस ने किया गिरफ्तार
IED टिफिन बम मामले में पकड़े गए चार आतंकी, पंजाब हाई अलर्ट पर

उत्तराखंड: उधम सिंह नगर में बढ़ती मुस्लिम आबादी, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने के प्रयास तेज

दिनेश मानसेरा उत्तराखंड स्थित उधमसिंह नगर जिले में हरिद्वार के बाद सबसे तेजी से मुस्लिम आबादी बढ़ रही है। आंकड़ों के मुताबिक उधमसिंह नगर में करीब 7 लाख मुस्लिम आबादी 2022 तक हो जाएगी। राज्य में यूं मुस्लिम आबादी का बढ़ना, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने जैसा हो जाएगा। उत्तराखंड स्थित उधमसिंह नगर जिले में हरिद्वार के बाद सबसे तेजी से मुस्लिम आबादी बढ़ रही है। आंकड़ों के मुताबिक उधमसिंह नगर में करीब 7 लाख मुस्लिम आबादी 2022 तक हो जाएगी। बता दें कि उधमसिंह नगर राज्य का मैदानी जिला है। भगौलिक ...

उत्तराखंड: उधम सिंह नगर में बढ़ती मुस्लिम आबादी, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने के प्रयास तेज