पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

कश्मीर पर तालिबान दिखाएगा पाकिस्तान को ठेंगा, हक्कानी ने कहा-'कश्मीर में दखल नहीं देंगे'

WebdeskSep 02, 2021, 02:50 PM IST

कश्मीर पर तालिबान दिखाएगा पाकिस्तान को ठेंगा, हक्कानी ने कहा-'कश्मीर में दखल नहीं देंगे'
हक्कानी गुट के सरगना जलालुद्दीन हक्कानी का बेटा अनस हक्कानी


हक्कानी नेटवर्क के नेता का ऐसा कहना मायने तो रखता है, लेकिन विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि किसी आतंकी गुट के कहे ऐसे ही सच नहीं माना जा सकता, वे कब अपनी बात से पलट जाएंगे, कहना मुश्किल है




वेब डेस्क
पाकिस्तान किस तरह बिछा-बिछा गया है तालिबान की जिहादी राह में उसे पूरी दुनिया देख चुकी है। संभवत: पाकिस्तान अफगानिस्तान में भारत की प्रसिद्धि और भारत के प्रति आम अफगानी के मन में इज्जत को पचा नहीं पा रहा था। उसे लगता है कि तालिबान सरगना और लड़ाकों की मिजाजपुर्सी करने पर वे शायद कश्मीर पर उसके पाले में आ खड़े होंगे। पाकिस्तान में पल रहे अंतरराष्ट्रीय आतंकी अजहर मसूद का भी तालिबान के साथ गलबहियां करने का मकसद बहुत हद तक कश्मीर ही रहा है। लेकिन 1 सितम्बर को हक्कानी नेटवर्क के संस्थापक जलालुद्दीन हक्कानी का सबसे छोटा बेटा अनस जो बोला है, उससे पाकिस्तान के पेट में कुछ मरोड़ जरूर उठी होगी। अनस ने एक चैनल को दिए साक्षात्कार में बोला कि उनका कोई इरादा नहीं है कश्मीर मामले में दखल देने का। हालांकि विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि आतंकी गुट हक्कानी के किसी भी सदस्य की बातों को ऐसे ही सच नहीं माना जा सकता, वे कब अपने कहे से पलट जाएंगे, कहना मुश्किल है।
19 साल, 10 महीने और 25 दिन बाद अफगानिस्तान से अमेरिकी सेनाओं की पूरी तरह वापसी के बाद, अफगानिस्तान फिर से तालिबान के शिकंजे में आ गया है। इधर पाकिस्तानी हुकूमत जश्न में ही डूबी थी कि अनस हक्कानी ने उस जश्न में यह कहकर खलल डाल दिया कि कश्मीर के मामले में दखल देने का उसका कोई इरादा नहीं है। उल्लेखनीय है कि अफगानिस्तान में बनने वाली तालिबान सरकार में हक्कानी नेटवर्क के प्रतिनिधि भी रहने वाले हैं।
 

अनस हक्कानी से पूछा गया था कि 'पाकिस्तान हक्कानी नेटवर्क के नजदीकी है। वह लगातार कश्मीर में दखल देता आ रहा है। क्या वे भी पाकिस्तान के समर्थन में कश्मीर में दखल देंगे?' इस प्रश्न पर अनस का कहना था कि 'कश्मीर हमारे अधिकार क्षेत्र में नहीं आता और दखल देना नीति के विरुद्ध है। हम अपनी नीति के विरुद्ध नहीं जा सकते हैं। इसलिए साफ है कि हम कश्मीर में दखल नहीं देने वाले।'


अनस हक्कानी ने यह बात सीएनएन-न्यूज 18 चैनल से कही है। अनस से पूछा गया था कि 'पाकिस्तान हक्कानी नेटवर्क के नजदीकी है। वह लगातार कश्मीर में दखल देता आ रहा है। क्या वे भी पाकिस्तान के समर्थन में कश्मीर में दखल देंगे?' इस प्रश्न पर अनस का कहना था कि 'कश्मीर हमारे अधिकार क्षेत्र में नहीं आता और दखल देना नीति के विरुद्ध है। हम अपनी नीति के विरुद्ध नहीं जा सकते हैं। इसलिए साफ है कि हम कश्मीर में दखल नहीं देने वाले।'

अनस से आगे फिर पूछा गया कि क्या हक्कानी नेटवर्क, जैशे मोहम्मद और लश्करे तैयबा को कश्मीर के मामले में अपना समर्थन नहीं देगा! इस पर अनस हक्कानी ने कहा कि इस पर पहले भी कई बार साफ कहा गया है और हम फिर से कह रहे हैं कि यह बस एक दुष्प्रचार है। भारत के साथ रिश्ते पर उसका कहना था कि वे भारत के साथ अच्छे रिश्ते चाहते हैं।



 

 
 

Comments
user profile image
Om Rajpoot
on Sep 05 2021 11:29:17

We can't trust in these terrorists groups. So please, don't write these types of headings. Thank you

Also read: सार्क से क्यों न तालिबान के मित्र पाकिस्तान को किया जाए बाहर ..

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा।

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा। सुनिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मा. जे. नंदकुमार को कल सुबह 10 बजे और सायं 5 बजे , फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब समेत अन्य सोशल मीडिया मंच पर।

Also read: भारत की तरक्की में सहयोग को तैयार अमेरिकी कंपनियां, निवेशकों के लिए बताया भारत को अनु ..

लड़कियों के स्कूल पर फोड़े बम, तालिबान से शह पाकर पाकिस्तान में भी लड़कियों की पढ़ाई पर नकेल कसना चाहते हैं जिहादी
चीनी हैकरों के निशाने पर भारत के मीडिया समूह, अमेरिकी साइबर सुरक्षा कंपनी ने किया दावा

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला

  अफगानिस्तान के 20 प्रांतों में 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों को अपने दफ्तर बंद करने पड़े हैं। वे अब न खबरें छापते हैं, न चैनल चलाते हैं   अफगानिस्तान बीते एक महीने के मजहबी उन्मादी तालिबान लड़ाकों के आतंकी राज में देश के 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों पर ताले लटक चुके हैं। उनके पास इतना पैसा नहीं रहा कि वे अपना काम चलाते रहें। तालिबान लड़ाकों की 'सरकार' ने आते ही सूचना के अधिकार की चिंदियां बिखेर दीं यानी 'सरकार' कब, क्या, कैसे कर रही है यह किसी को जान ...

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला