पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

तो क्या अफीम की खेती पर रोक लगाने से चेहरा चमक जाएगा तालिबान का!

WebdeskAug 31, 2021, 03:45 PM IST

तो क्या अफीम की खेती पर रोक लगाने से चेहरा चमक जाएगा तालिबान का!
अफगानिस्तान में अफीम का खेत (प्रतीकात्मक चित्र)


कंधार में अफीम की खेती सबसे अधिक होती है। इसकी कमाई से यहां की अर्थव्यवस्था में एक बड़ी राशि जमा होती है। इससे होने वाली कमाई से ही तालिबान के 80 हजार लड़ाकों के लिए पैसा जुटाया जाता है


वेब डेस्क
दुनिया के सामने अपनी सूरत सुधरी दिखाने और यह जताने के लिए कि 'यह तालिबान पिछले तालिबान से अलग है', अफगानिस्तान पर बंदूक के दम पर कब्जा करने वाले जिहादी गुट तालिबान ने कंधार और उसके आसपास के किसानों को अफीम की खेती न करने का फरमान जारी किया है। दरअसल तालिबान की यह कवायद यह दिखाने की है कि वह नशे के बहुत खिलाफ है।

विशेषज्ञों के अनुसार, तालिबान दुनियाभर के देशों से मान्यता पाना चाहता है। इस कवायद में उसे अपने क्रूर चेहरे को थोड़ा पीछे रखने की जरूरत है, छवि को चमकाने की जरूरत है। बहुत हद तक इसी वजह से सबसे ज्यादा कमाई का जरिया मानी जाने के बावजूद तालिबान अफीम की खेती पर रोक लगाने का इरादा कर चुका है। बता दें कि यह वही तालिबान है जिसने पिछले ही साल इससे 11 हजार करोड़ रुपए की कमाई की थी। लेकिन अब खबर है कि तालिबान ने किसानों से कहा है कि अब अफीम उगाना गैरकानूनी माना जाएगा।


विशेषज्ञों के अनुसार, तालिबान दुनियाभर के देशों से मान्यता पाना चाहता है। उसे अपनी छवि को चमकाने की जरूरत है। बहुत हद तक इसी वजह से सबसे ज्यादा कमाई का जरिया मानी जाने के बावजूद तालिबान अफीम की खेती पर रोक लगाने का इरादा कर चुका है। बता दें कि यह वही तालिबान है जिसने पिछले ही साल इससे 11 हजार करोड़ रुपए की कमाई की थी। 
 

उल्लेखनीय है कि कंधार ही वह इलाका है जहां अफीम की खेती सबसे अधिक होती है। इसकी कमाई से यहां की अर्थव्यवस्था में एक बड़ी राशि जमा होती है। यह भी कोई छुपी हुई बात नहीं है कि इससे होने वाली कमाई से ही तालिबान के 80 हजार लड़ाकों के लिए पैसा जुटाया जाता है। नाटो ने ही बताया था कि, 2020 में तालिबान ने अफीम की बिक्री से 11 हजार करोड़ रुपये की कमाई की थी। 2001 में अफीम की 180 टन उपज  महज छह साल बाद बढ़कर 8,000 टन हो गई थी।

दो हफ्ते पहले एक पत्रकार वार्ता में तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद का कहना था कि अफगानिस्तान की नई सत्ता नशे के कारोबार की आज्ञा नहीं देंगे। और अब इस नए फरमान के बाद तालिबान ने अफीम की खेती पर रोक लगा दी है।

अफीम पर पाबंदी लगने की खबर फैलते ही कंधार व अन्य जगहों पर अफीम के दाम एकाएक बढ़ गए हैं। कंधार, उरुजगन तथा हेलमंड में किसानों की मानें तो कच्ची अफीम तीन गुना दामों पर बिक रही है। किसानों ने बताया कि कच्ची अफीम से ही हीरोइन बनती है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, अफगानिस्तान में अफीम का उत्पादन 2017 में 9,900 टन था। तब इसे बेचकर किसानों ने करीब 10 हजार करोड़ रुपए कमाए थे। देश के सकल घरेलू उत्पाद में इसने सात फीसदी साझेदारी की थी।

Comments

Also read: पाकिस्तान के पोसे खालिस्तानी संगठन जड़ें जमा रहे अमेरिका में, हडसन इंस्टीट्यूट की रपट ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: हक्कानी से जान का खतरा जान, मुल्ला बरादर काबुल से गया कंधार ..

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग
बेटे से 'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगवाने वाला गया जेल

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें

वेब डेस्क   तालिबान के बुर्के, हिजाब के फरमान के विरुद्ध पारंपरिक अफगानी परिधानों में अपनी एक से एक तस्वीरें साझा कीं। तालिबानी मुल्लाओं और उनकी मध्ययुगीन सोच के विरुद्ध यह अनोखा विरोध प्रदर्शन दुनियाभर के लोगों को रास आ रहा है। उन्होंने इन महिलाओं के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया है। स्वाभिमानी अफगान महिलाओं ने शरीयती तालिबान और उनके हिजाब व बुर्के के फरमान की धज्जियां उड़कर रख दी हैं। विदेशों में बसीं अनेक अफगान महिलाएं 13 सितम्बर को सोशल मीडिया पर छाई रहीं। उन्होंने तालि ...

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें