पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

संघ

नए परिसर में ‘पाञ्चजन्य’ और ‘आर्गनाइजर’

WebdeskSep 12, 2021, 10:17 PM IST

नए परिसर में ‘पाञ्चजन्य’ और ‘आर्गनाइजर’
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य, भारत प्रकाशन दिल्ली लिमिटेड के प्रबंध निदेशक श्री भारत भूषण अरोड़ा, सर्वोच्च न्यायालय की वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीमती मोनिका अरोड़ा


हवन के बाद आरती करते हुए सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य। साथ में हैं (बाएं से) श्रीमती मोनिका अरोड़ा, श्री भारत भूषण अरोड़ा और अन्य



गत 6 सितंबर को नई दिल्ली के मयूर विहार एक्सटेंशन में ‘पाञ्चजन्य’ एवं ‘आर्गनाइजर’ के नए कार्यालय का वैदिक विधि-विधान से शुभारंभ हुआ। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य। उन्होंने अपने आशीर्वचन में कहा कि भारत का विचार सर्वसमावेशक है और इसी विचार को आगे बढ़ाने की आवश्यकता है।

वर्तमान में वैचारिक युद्ध चल रहा है। राष्ट्रभावी शक्तियां मजबूत न होने पाएं, इसके लिए राष्ट्र-विरोधी तत्व हर स्तर पर प्रयासरत हैं। भारत में राष्ट्र-विरोधी विचार प्रभावी न हो पाएं, इसके लिए हमें कार्य करना है। एक तरह से यह धर्म-युद्ध है और पाञ्चजन्य धर्म-युद्ध का शंखनाद है।

जो लोग धर्म के साथ नहीं हैं, उन पर बाण चलाने पड़ेंगे। उन्होंने कहा कि हमने सारे समाज को अपना माना है और इसलिए समाज को साथ लेकर आगे बढ़ना है। यही भारत का मूल विचार है। सभी भारत माता की संतान हैं और सबके सहयोग से ही हम धर्म-युद्ध जीतेंगे।

इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य श्री राम माधव, पूर्व राज्यसभा सांसद और पाञ्चजन्य के पूर्व संपादक श्री तरुण विजय, दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष श्री आदेश गुप्ता, भारत प्रकाशन दिल्ली लिमिटेड के प्रबंध निदेशक श्री भारत भूषण अरोड़ा, निदेशक श्री ब्रज बिहारी गुप्ता, श्री अनिल गुप्ता, निदेशक एवं प्रकाशक श्री बिहारी लाल सिंघल, पाञ्चजन्य और आर्गनाइजर के संपादक श्री हितेश शंकर एवं श्री प्रफुल्ल केतकर और सर्वोच्च न्यायालय की वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीमती मोनिका अरोड़ा सहित अनेक गणमान्यजन उपस्थित रहे। 

 

Follow us on:
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Sep 16 2021 12:07:56

badhai ho Naye karyalay ki panchjanya weekly

user profile image
Anonymous
on Sep 16 2021 09:54:23

बधाई

user profile image
Anonymous
on Sep 15 2021 12:29:30

नए परिसर की बधाई

user profile image
jogender mohan
on Sep 13 2021 14:11:04

congratilations on shifting tomew promises May prosper by leapd & bounds

user profile image
Anonymous
on Sep 13 2021 12:55:08

मुझे गर्व है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ समाज के लिए तन मन धन से कार्य करता है

user profile image
Anonymous
on Sep 13 2021 11:50:18

नूतन गृह प्रवेशद्वार शुभाभिनन्दन

user profile image
Anonymous
on Sep 13 2021 09:19:27

पाञ्चजन्य राष्ट्रवादीयों की आवाज है। अभिनंदन।

user profile image
सतीश कुमार तिवारी शिक्षक
on Sep 12 2021 22:12:51

panchjanya Ham logon ka Pran hai

user profile image
सतीश कुमार तिवारी शिक्षक
on Sep 12 2021 22:12:21

kya Rashtra Dharm prakashit Nahin Hota Hai

user profile image
Anonymous
on Sep 12 2021 20:22:07

" Abhinandan " 👌👌

user profile image
Ajay Khemariya
on Sep 11 2021 17:50:20

बधाई

Also read: तात्कालिक लाभ के सिद्धांतों के विरोधी थे दीनदयाल जी ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव पर विशेष  : स्वातंत्र्य समर का पुनरावलोकन ..

कब, कैसे, क्यों हुई संघ की स्थापना
सेवा भारत की सनातन संस्कृति व दर्शन का प्राण है : डॉ. कृष्ण गोपाल

‘स्व’ का संकल्प

जे. नंदकुमार 75वां स्वतंत्रता दिवस समारोह हम सभी के लिए स्वतंत्रता संग्राम के पूरे आख्यान के बारे में अपने खोए हुए 'सामूहिक सत्य' पर फिर से विचार करने, परिष्कृत करने और स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायकों का नए सिरे से पता लगाने और उन्हें स्वीकार करने के साथ-साथ अपना दृष्टिकोण बदलते हुए अपने अतीत तथा सामूहिक पहचान के बारे में सामने आने वाली सच्चाइयों का विश्लेषण करने का एक महान अवसर है आगामी 15 अगस्त से भारत अपनी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मनाएगा। इसलिए, हमारे लिए यह महत्वपूर ...

‘स्व’ का संकल्प