पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

मोदी ने की यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स से बात, अफगानिस्तान में बनी परिस्थिति पर चर्चा

WebdeskSep 01, 2021, 05:03 PM IST

मोदी ने की यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स से बात, अफगानिस्तान में बनी परिस्थिति पर चर्चा
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और चार्ल्स मिशेल (फाइल चित्र)


भारत और यूरोपीय संघ की अफगानिस्तान में भूमिका और क्षेत्र में स्थिरता को लेकर भी दोनों नेताओं ने गंभीरता से विचार किया




वेब डेस्क   

कल यानी 31 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स मिशेल से अफगान में बनी परिस्थिति पर की फोन पर वार्ता की। प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा इस चर्चा की जानकारी दी गई है।

प्रधानमंत्री मोदी ने मिशेल के साथ अफगानिस्तान में हाल की घटनाओं और क्षेत्र तथा दुनिया पर उनके असर पर चर्चा की। प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी बयान में बताया गया है कि फोन पर हुई इस बातचीत में दोनों नेताओं ने एक स्थिर और सुरक्षित अफगानिस्तान की जरूरत पर बल दिया। दोनों ने इस संदर्भ में भारत और यूरोपीय संघ की भूमिका पर भी मंत्रणा की है।

मोदी और मिशेल ने काबुल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर हुए फिदायीन हमले की निंदा की, जिसमें कई लोग मारे गए थे। मोदी ने यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष के साथ अपनी बातचीत की ट्वीट पर जानकारी देते हुए लिखा, ‘‘यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष चार्ल्स मिशेल के संग अफगानिस्तान में बनी स्थिति के बारे में बात की। साथ ही भारत-यूरोपीय संघ के बीच संबंधों को और मजबूत करने की हमारी प्रतिबद्धता को दोहराया।’’

प्रधानंमत्री कार्यालय का कहना है कि दोनों नेताओं ने अफगानिस्तान के हाल के घटनाक्रम तथा इलाके और दुनिया पर इसके असर के बारे में चर्चा की। दोनों नेता द्विपक्षीय और वैश्विक मुद्दों, खासकर अफगानिस्तान की स्थिति पर संपर्क बनाये रखने पर सहमत हुए हैं।

उधर 31 अगस्त को ही दोहा में राजदूत दीपक मित्तल ने तालिबान के राजनीतिक प्रतिनिधि शेर मोहम्मद अब्बास से मुलाकात की। विदेश मंत्रायल द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार यह वार्ता तालिबान की पहल पर हुई थी। मित्तल ने अफगानिस्तान में भारतीयों की सुरक्षा और जल्द से जल्द भारत वापसी के साथ ही भारत आने के इच्छुक अफगान अल्पसंख्यकों को यात्रा करने की इजाजत देने संबंधी विषय उठाए। इसके साथ ही, भारतीय राजदूत ने यह भी कहा कि अफगानिस्तान की जमीन भारत विरोधी गतिविधियों और किसी भी तरह के आतंक के लिए इस्तेमाल नहीं करने देनी चाहिए।

मंत्रालय की विज्ञप्ति के अनुसार, तालिबान प्रतिनिधि ने इन सभी विषयों पर सकारात्मकता के साथ विचार करने का आश्वासन दिया है।



दोहा में भारतीय राजदूत की तालिबान प्रतिनिधि से वार्ता पर मंत्रालय द्वारा जारी विज्ञप्ति



प्रधानंमत्री कार्यालय का कहना है कि दोनों नेताओं ने अफगानिस्तान के हाल के घटनाक्रम तथा इलाके और दुनिया पर इसके असर के बारे में चर्चा की। दोनों नेता द्विपक्षीय और वैश्विक मुद्दों, खासकर अफगानिस्तान की स्थिति पर संपर्क बनाये रखने पर सहमत हुए हैं। 

Comments

Also read: सार्क से क्यों न तालिबान के मित्र पाकिस्तान को किया जाए बाहर ..

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा।

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा। सुनिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मा. जे. नंदकुमार को कल सुबह 10 बजे और सायं 5 बजे , फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब समेत अन्य सोशल मीडिया मंच पर।

Also read: भारत की तरक्की में सहयोग को तैयार अमेरिकी कंपनियां, निवेशकों के लिए बताया भारत को अनु ..

लड़कियों के स्कूल पर फोड़े बम, तालिबान से शह पाकर पाकिस्तान में भी लड़कियों की पढ़ाई पर नकेल कसना चाहते हैं जिहादी
चीनी हैकरों के निशाने पर भारत के मीडिया समूह, अमेरिकी साइबर सुरक्षा कंपनी ने किया दावा

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला

  अफगानिस्तान के 20 प्रांतों में 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों को अपने दफ्तर बंद करने पड़े हैं। वे अब न खबरें छापते हैं, न चैनल चलाते हैं   अफगानिस्तान बीते एक महीने के मजहबी उन्मादी तालिबान लड़ाकों के आतंकी राज में देश के 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों पर ताले लटक चुके हैं। उनके पास इतना पैसा नहीं रहा कि वे अपना काम चलाते रहें। तालिबान लड़ाकों की 'सरकार' ने आते ही सूचना के अधिकार की चिंदियां बिखेर दीं यानी 'सरकार' कब, क्या, कैसे कर रही है यह किसी को जान ...

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला