पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग

WebdeskSep 15, 2021, 03:07 PM IST

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग

 


तालिबान की इस बार की हुकूमत के विरुद्ध अफगानिस्तान के लोग ज्यादा मुखर दिख रहे हैं। हालांकि तालिबान के उन्मादी सरगना बाद में उस विरोध से अपनी तरह से निपट भी रहे हैं



तालिबान ने हाल में कंधार के दक्षिणी इलाके में एक सैन्य कॉलोनी से लोगों को घर खाली करने का फरमान सुनाया है। इसके विरुद्ध 14 सितम्बर को हजारों अफगानी लोगों ने एकजुट होकर गवर्नर हाउस के सामने प्रचंड प्रदर्शन करके इसका तीखा विरोध किया। बड़ी तादाद में वहां रहने वाले लोगों ने तालिबान के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए गवर्नर हाउस के बाहर प्रदर्शन किया। बताते हैं, वहां करीब तीन हजार से ज्यादा परिवार रह रहे हैं।

एक आहत सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी ने दुखी स्वर में कहा कि यहां रहने वाले करीब तीन हजार परिवारों को बिना वजह सिर्फ तीन दिन में घर खाली करने का फरमान दे दिया गया। इससे आक्रोशित प्रदर्शनकारी शहर के रास्ते जाम करके बैठ गए। हालांकि तालिबान ने फिलहाल इस घटना पर कोई बयान नहीं दिया है लेकिन कुछ लोगों को लगता है कि उनके रवैए को देखते हुए कोई तीखी प्रतिक्रिया देखने में आ सकती है। हालांकि स्थानीय तालिबान नेताओं ने इस मामले की जांच कराने का भरोसा दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदर्शनकारियों को प्रदर्शन करने की पहले से इजाजत लेनी चाहिए थी।

विशेषज्ञों का मानना है कि तालिबान की इस बार की हुकूमत के विरुद्ध अफगानिस्तान के लोग ज्यादा मुखर दिख रहे हैं जो अच्छी बात है। हालांकि तालिबान के उन्मादी सरगना बाद में उस विरोध से अपनी तरह से निपट भी रहे हैं। पिछले 1996 के राज के जैसा ही डरावना माहौल बनाया जा रहा है, जबरन शरीयती कायदे थोपे जा रहे हैं। अगर वह सैन्य बस्ती खाली कराने का फरमान कड़ाई से लागू करवा दिया तो ऐसे तीन हजार परिवारों की महिलाएं और बच्चे सड़क पर आ जाएंगे जो पहले ही तंगहाली में जी रहे हैं।        


तालिबानी फरमान के विरोध में कंधार की सड़कों पर उतरे हजारों लोग

करीब तीन हजार परिवारों को बिना वजह सिर्फ तीन दिन में घर खाली करने का फरमान दे दिया गया। इससे आक्रोशित प्रदर्शनकारी शहर के रास्ते जाम करके बैठ गए। हालांकि तालिबान ने फिलहाल इस घटना पर कोई बयान नहीं दिया है लेकिन कुछ लोगों को लगता है कि उनके रवैए को देखते हुए कोई तीखी प्रतिक्रिया देखने में आ सकती है।  

Follow Us on Telegram
 

 

 

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Sep 18 2021 14:43:42

जिन लोगों ने सोमनाथ मंदिर लूट के खाया है उनका और क्या होना है

Also read: सार्क से क्यों न तालिबान के मित्र पाकिस्तान को किया जाए बाहर ..

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा।

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा। सुनिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मा. जे. नंदकुमार को कल सुबह 10 बजे और सायं 5 बजे , फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब समेत अन्य सोशल मीडिया मंच पर।

Also read: भारत की तरक्की में सहयोग को तैयार अमेरिकी कंपनियां, निवेशकों के लिए बताया भारत को अनु ..

लड़कियों के स्कूल पर फोड़े बम, तालिबान से शह पाकर पाकिस्तान में भी लड़कियों की पढ़ाई पर नकेल कसना चाहते हैं जिहादी
चीनी हैकरों के निशाने पर भारत के मीडिया समूह, अमेरिकी साइबर सुरक्षा कंपनी ने किया दावा

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला

  अफगानिस्तान के 20 प्रांतों में 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों को अपने दफ्तर बंद करने पड़े हैं। वे अब न खबरें छापते हैं, न चैनल चलाते हैं   अफगानिस्तान बीते एक महीने के मजहबी उन्मादी तालिबान लड़ाकों के आतंकी राज में देश के 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों पर ताले लटक चुके हैं। उनके पास इतना पैसा नहीं रहा कि वे अपना काम चलाते रहें। तालिबान लड़ाकों की 'सरकार' ने आते ही सूचना के अधिकार की चिंदियां बिखेर दीं यानी 'सरकार' कब, क्या, कैसे कर रही है यह किसी को जान ...

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला