पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

अफगानिस्तान में 'मानवीय सहायता' के नाम पर अमेरिका दे रहा 470 करोड़ रु., तो संरा देगा करीब डेढ़ अरब, क्या यह लड़ाकों की हुकूमत को मान्य करने की मंशा!

WebdeskSep 14, 2021, 01:24 PM IST

अफगानिस्तान में 'मानवीय सहायता' के नाम पर अमेरिका दे रहा 470 करोड़ रु., तो संरा देगा करीब डेढ़ अरब, क्या यह लड़ाकों की हुकूमत को मान्य करने की मंशा!
अफगानिस्तान पर जिनेवा सम्मेलन में महासचिव गुतारेस


जनता को मुसीबत में संभालने, उन्हें राशन, पानी व स्वास्थ्य संबंधी अन्य जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने की बजाय तालिबान सरगना राष्ट्रपति महल पर कब्जा करके किसी वैध सरकार जैसी ठसक के साथ फोटो खिंचवा रहे हैं



अफगानिस्तान में तालिबान लड़ाकों की हुकूमत में आम अफगानियों के प्रति जिहादी बर्बरता में कोई कमी नहीं दिख रही है। हालांकि कुछ अखबारों और चैनलों के जरिए यह बात फैलाने की कोशिश की गईं कि 'तालिबान 2.0 पहले वाले तालिबान नहीं हैं, ये सबको अधिकार देने की बात करता है'। लेकिन पाशविकता में शायद मजहबी लड़ाके कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। भूखों मरती और पलायन करती अफगान जनता पर तालिबान बंदूकधारी जब तब गोली दागते हैं, कोड़े बरसाते हैं। जनता को मुसीबत में संभालने, उन्हें राशन, पानी व स्वास्थ्य संबंधी अन्य जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने की बजाय तालिबान सरगना राष्ट्रपति महल पर कब्जा करके किसी वैध सरकार जैसी ठसक के साथ फोटो खिंचवा रहे हैं। उनका फर्ज था कि वे पहले आम अफगानी में भरोसा कायम करते, उसकी जिंदगी पटरी पर लाने की चिंता करते, पर उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया है। पाकिस्तान और चीन ने 'उनके पास पैसा नहीं है, अफगान बदहाल हैं, उन्हें राहत चाहिए' के जुमलों को दुनियाभर में गुंजाने का जैसे ठेका ले रखा है। हर मंच से दोनों देश यही दोहराते दिखे हैं।

लेकिन शायद इसका असर पड़ा है संयुक्त राष्ट्र पर। वहां की सेकुलर और चीन के प्रभाव वाली लॉबी ने आखिरकार 'अफगानिस्तान के हालात पर दो दिन का जिनेवा सम्मेलन' बुलवा ही लिया। 13 सितम्बर को तालिबान से बुरी तरह परास्त हुए अमेरिका ने ही सबसे पहले 470 करोड़ रु. की मानवीय सहायता देने का वचन दिया है। ध्यान रहे, अमेरिका की उप राष्ट्रपति हैं कमला हैरिस, जिन्होंने कभी इस्लामी उन्मादियों के प्रति कड़े शब्दों का प्रयोग नहीं किया, जो अपने सेकुलर होने का दम भरती हैं। अमेरिका की देखादेखी संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने भी संगठन की तरफ से डेढ़ अरब देने की घोषणा कर दी। दुनिया के ज्यादातर समझदार और मजहबी उन्माद के जानकारों को इस फैसले से हैरानी हुई है। वे समझ गए हैं कि चीन अपनी साजिशें चलाने में कामयाब हो रहा है। उल्लेखनीय है कि चीन अब अफगानिस्तान के तालिबान लड़ाकों की हुकूमत को रिझाने और खुद को उनके पाले में दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है।

अमेरिका ने सबसे पहले 470 करोड़ रु. की मानवीय सहायता देने का वचन दिया है। ध्यान रहे, अमेरिका की उप राष्ट्रपति हैं कमला हैरिस, जिन्होंने कभी इस्लामी उन्मादियों के प्रति कड़े शब्दों का प्रयोग नहीं किया है, जो अपने सेकुलर होने का दम भरती हैं। अमेरिका की देखादेखी संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने भी संगठन की तरफ से डेढ़ अरब देने की घोषणा कर दी। दुनिया भर में मजहबी उन्माद के जानकारों को इस फैसले से हैरानी हुई है।

   संयुक्त राष्ट्र संघ में अमेरिका की राजदूत लिंडा थॉम्पसन ग्रीनफील्ड ने 13 सितम्बर को कहा कि अफगानिस्तान में हालात 'बहुत गंभीर' हैं। इसलिए अमेरिका करीब 470 करोड़ रुपये की 'मानवीय सहायता' देने को तैयार है। लिंडा ने यह भी कहा कि हम अफगानिस्तान की जमीनी स्थिति का आकलन करेंगे। उसके बाद आगे की सहायता पर विचार करेंगे। लिंडा ने जिनेवा सम्मेलन में तालिबान से अपनी बात पर खरे उतरने की अपील की।

अमेरिका के साथ ही संयुक्त राष्ट्र ने भी अफगानिस्तान में 'मानवीय सहायता' के लिए दो करोड़ अमेरिकी डॉलर देने की घोषणा की। महासचिव एंतोनियो गुतारेस का कहना है कि युद्ध में उलझे देश में लोग शायद अपने सबसे जोखिमभरे वक्त का सामना कर रहे हैं। ऐसे में अंतरराष्ट्रीय समुदाय को उनके साथ खड़े होना होगा। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के आम जन को खाना, दवा, स्वास्थ्य सेवाओं, पीने के पानी, स्वच्छता और सुरक्षा की फौरन जरूरत है।

 
 

Comments

Also read: पाकिस्तान के पोसे खालिस्तानी संगठन जड़ें जमा रहे अमेरिका में, हडसन इंस्टीट्यूट की रपट ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: हक्कानी से जान का खतरा जान, मुल्ला बरादर काबुल से गया कंधार ..

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग
बेटे से 'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगवाने वाला गया जेल

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें

वेब डेस्क   तालिबान के बुर्के, हिजाब के फरमान के विरुद्ध पारंपरिक अफगानी परिधानों में अपनी एक से एक तस्वीरें साझा कीं। तालिबानी मुल्लाओं और उनकी मध्ययुगीन सोच के विरुद्ध यह अनोखा विरोध प्रदर्शन दुनियाभर के लोगों को रास आ रहा है। उन्होंने इन महिलाओं के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया है। स्वाभिमानी अफगान महिलाओं ने शरीयती तालिबान और उनके हिजाब व बुर्के के फरमान की धज्जियां उड़कर रख दी हैं। विदेशों में बसीं अनेक अफगान महिलाएं 13 सितम्बर को सोशल मीडिया पर छाई रहीं। उन्होंने तालि ...

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें