पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

अफगानिस्तान से भारत लाए जा रहे हिंदू-सिख, भारतीय दूतावास ने फिलहाल पहुंचाया सुरक्षित स्थान पर

WebdeskAug 20, 2021, 05:03 PM IST

अफगानिस्तान से भारत लाए जा रहे हिंदू-सिख, भारतीय दूतावास ने फिलहाल पहुंचाया सुरक्षित स्थान पर
अफगानिस्तान के करता-परवान में गुरुद्वारा सिंह सभा में सुरक्षा के लिए एकत्र हुए हैं हिन्दू-सिख


भारतीय दूतावास की ओर से हिन्दू-सिख समुदाय की मदद करने के लिए अनेक स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। काबुल के रहने वाले अनेक सिखों ने बताया है कि भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने हिंदुओं-सिखों को सुरक्षित स्थान पर भेजा है



जैसे जैसे वक्त बीत रहा है, अफगानिस्तान पर तालिबान का शिकंजा गहराता जा रहा है। ऐसे में वहां अल्पसंख्यक हिंदू और सिख समुदाय के लोग अपनी और अपने परिवारों की जान की हिफाजत को लेकर सांसत में हैं। वे चाहते हैं कि जितनी जल्दी हो, उन्हें भारत पहुंचाया जाए। वे बदहवासी और परेशानी से घिरे हैं। ऐसी परिस्थिति में वहां के भारतीय दूतावास के अधिकारी अपनी तरफ से हरसंभव प्रयास कर रहे हैं ताकि उनकी सुरक्षा सुनिश्चित हो सके।

भारतीय दूतावास की ओर से हिन्दू-सिख समुदाय की मदद करने के लिए अनेक स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। काबुल के रहने वाले अनेक सिखों ने बताया है कि भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने 19 अगस्त को लगभग 60 हिंदुओं-सिखों को अफगानिस्तान के करता-परवान में गुरुद्वारा सिंह सभा से किसी सुरक्षित स्थान पर भेजा है।

काबुल में कई सिखों ने कहा है कि वे कनाडा या अमेरिका नहीं, सिर्फ भारत जाना पसंद करेंगे, क्योंकि भारत में स्थिति कहीं बेहतर है। सूत्रों ने बताया है कि अफगानी संसद में सिख समुदाय के दो सदस्यों अनारकली कौर होनारयार (उच्च सदन) और नरेंद्र सिंह खालसा (निचले सदन) भी सुरक्षित स्थानों पर भेजे गए लोगों में शामिल हैं। नरेंद्र खालसा उन्हीं अफगानी सिख नेता अवतार सिंह खालसा के बेटे हैं, जिनकी जलालाबाद में 2018 में आतंकवादी हमले में हत्या की गई थी।

तालिबान के भय से कम से कम 285 सिखोें-हिंदुओं ने गुरुद्वारे में शरण ली हुई है। इनमें से ज्यादातर के पास अपने दस्तावेज हैं। ये लोग काबुल, जलालाबाद और गजनी से यहां सुरक्षा की आस में पहुंचे हैं। तीन दिन पहले कुछ अफगानी सिखों ने एक वीडियो जारी किया था और उसके माध्यम से अमेरिका और कनाडा से मदद मांगी थी। एक स्थानीय सिख का कहना है कि पांच अफगानी सिखों की संपत्ति भारत में है। इसलिए वे भारत में ही जाना चाहते हैं। लेकिन जिनकी भारत में संपत्ति नहीं है, वे अमेरिका या कनाडा जाना चाहते हैं।’


तालिबान के भय से कम से कम 285 सिखोें-हिंदुओं ने गुरुद्वारे में शरण ली हुई है। इनमें से ज्यादातर के पास अपने दस्तावेज हैं। ये लोग काबुल, जलालाबाद और गजनी से यहां सुरक्षा की आस में पहुंचे हैं। तीन दिन पहले कुछ अफगानी सिखों ने एक वीडियो जारी किया था और उसके माध्यम से अमेरिका और कनाडा से मदद मांगी थी। 

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Aug 21 2021 21:40:17

अब देश में कथित धर्मनिरपेक्ष सरकर नहीं है जो आफगानिस्तन पाकिस्तन में रह रहे हिंदू सिक्खों को भारत में बसने से विभिन्न तरिकों से रोकता आया है। देश विभाजन के इतने सालों के बाद भी उनका षडयंत्र जारी है। अब मौका है घर लौटनेका और यहां घुसपैठिये मजे काट रहा है

Also read: पाकिस्तान के पोसे खालिस्तानी संगठन जड़ें जमा रहे अमेरिका में, हडसन इंस्टीट्यूट की रपट ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: हक्कानी से जान का खतरा जान, मुल्ला बरादर काबुल से गया कंधार ..

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग
बेटे से 'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगवाने वाला गया जेल

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें

वेब डेस्क   तालिबान के बुर्के, हिजाब के फरमान के विरुद्ध पारंपरिक अफगानी परिधानों में अपनी एक से एक तस्वीरें साझा कीं। तालिबानी मुल्लाओं और उनकी मध्ययुगीन सोच के विरुद्ध यह अनोखा विरोध प्रदर्शन दुनियाभर के लोगों को रास आ रहा है। उन्होंने इन महिलाओं के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया है। स्वाभिमानी अफगान महिलाओं ने शरीयती तालिबान और उनके हिजाब व बुर्के के फरमान की धज्जियां उड़कर रख दी हैं। विदेशों में बसीं अनेक अफगान महिलाएं 13 सितम्बर को सोशल मीडिया पर छाई रहीं। उन्होंने तालि ...

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें