पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

‘पंज प्‍यारे’ बयान को लेकर हरीश रावत ने माफी मांगी

WebdeskSep 01, 2021, 05:32 PM IST

‘पंज प्‍यारे’ बयान को लेकर हरीश रावत ने माफी मांगी
हरीश रावत


पंजाब कांग्रेस में जारी घमासान खत्‍म करने के लिए मंगलवार को चंडीगढ़ पहुंचे पंजाब के प्रभारी हरीश रावत नई मुसीबत में फंस गए। उन्‍होंने पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्षों की तुलना ‘पंज प्यारे’ से कर दी। इस पर आपत्ति जताते हुए शिरोमणि अकाली दल ने उनसे माफी मांगने को कहा था। रावत ने बुधवार को माफी मांगते हुए कहा कि वह अपने शब्द वापस ले रहे हैं।


रावत ने मीडिया से कहा, मैंने उस शब्द (पंज प्यारे) का इस्तेमाल एक सम्मानित व्यक्ति के लिए एक संदर्भ के रूप में किया था। फिर भी अगर मेरे शब्दों से किसी की भावनाओं को ठेस पहुंची है, तो मैं माफी मांगता हूं और अपने शब्दों को वापस लेता हूं। प्रायश्चित के लिए मैं अपने राज्‍य (उत्‍तराखंड) में गुरुद्वारे में झाड़ू लगाऊंगा।’’

दरअसल, रावत ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू और 4 कार्यकारी अध्यक्षों को 'पंज प्यारे' कहकर संबोधित किया था। उन्‍होंने कहा था, 'पीसीसी चीफ नवजोत सिंह सिद्धू और 4 कार्यकारी अध्यक्षों यानी पंज प्यारे के साथ चर्चा करना मेरी जिम्मेदारी है। सिद्धू ने मुझे बताया है कि चुनाव, संगठन को विस्तार दिया जाएगा। पीसीसी काम कर रही है, निश्चिंत रहें। जहां तक मुझे पता है, सिद्धू पीसीसी के पहले अध्यक्ष हैं, जो पार्टी के सभी संगठनों के साथ बैठक कर रहे हैं। साथ ही समस्याओं के समाधान को लेकर काम भी कर रहे हैं।' इस पर शिरोमणि अकाली दल के नेता दलजीत सिंह चीमा ने आपत्ति जताते हुए उनसे माफी मांगने को कहा था। उन्‍होंने कहा कि ऐसा करके हरीश रावत ने सिख भावनाओं को ठेस पहुंचाई है। उन्हें पता होना चाहिए कि सिखों के लिए ‘पंज प्यारे’ का क्या महत्व है। यह कोई मजाक नहीं है, उन्हें माफी मांगनी चाहिए। मैं पंजाब सरकार से अपील करता हूं कि रावत के खिलाफ केस दर्ज करें।'

image.png

 

Comments

Also read: श्रीनगर में 4 आतंकियों समेत 15 OGW मौजूद, सर्च ऑपरेशन जारी ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भारत ने पाकिस्तान सहित OIC को लगाई लताड़ ..

पाकिस्तानी एजेंटों को गोपनीय सूचनाएं दे रहे थे DRDO के संविदा कर्मचारी, पुलिस ने किया गिरफ्तार
IED टिफिन बम मामले में पकड़े गए चार आतंकी, पंजाब हाई अलर्ट पर

उत्तराखंड: उधम सिंह नगर में बढ़ती मुस्लिम आबादी, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने के प्रयास तेज

दिनेश मानसेरा उत्तराखंड स्थित उधमसिंह नगर जिले में हरिद्वार के बाद सबसे तेजी से मुस्लिम आबादी बढ़ रही है। आंकड़ों के मुताबिक उधमसिंह नगर में करीब 7 लाख मुस्लिम आबादी 2022 तक हो जाएगी। राज्य में यूं मुस्लिम आबादी का बढ़ना, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने जैसा हो जाएगा। उत्तराखंड स्थित उधमसिंह नगर जिले में हरिद्वार के बाद सबसे तेजी से मुस्लिम आबादी बढ़ रही है। आंकड़ों के मुताबिक उधमसिंह नगर में करीब 7 लाख मुस्लिम आबादी 2022 तक हो जाएगी। बता दें कि उधमसिंह नगर राज्य का मैदानी जिला है। भगौलिक ...

उत्तराखंड: उधम सिंह नगर में बढ़ती मुस्लिम आबादी, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने के प्रयास तेज