पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

चर्चित आलेख

विस्थापित कश्मीरी पंडितों को वापस मिलेगी उनकी जमीन

WebdeskAug 23, 2021, 03:18 PM IST

विस्थापित कश्मीरी पंडितों को वापस मिलेगी उनकी जमीन


सरकार ने कश्मीर से विस्थापित हुए कश्मीरी पंडितों को उनकी जमीन वापस लौटाने के लिए एक शिकायत पोर्टल तैयार किया है। इस पर शिकायत कर कश्मीरी पंडित अपनी जमीन वापस ले सकेंगे


1989—90 में आतंकी हिंसा के कारण मजबूर होकर घाटी छोड़कर जाने वाले विस्थापित कश्मीरियों को अब उनकी पुश्तैनी जमीन जायदाद वापस मिलेगी। इसके लिए जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने एक शिकायत पोर्टल तैयार किया गया है। इस पर देश-विदेश में कहीं भी रहने वाले विस्थापित कश्मीरी अपनी जायदाद के संबंध में शिकायत दर्ज करा सकेंगे। इसमें वह जबरन कब्जे या फिर उनकी जमीन को सस्ते दामों में खरीद लिए जाने की भी शिकायत दर्ज करा सकेंगे।

इस मामले से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि आतंकी धमकियों के कारण जब लाखों कश्मीरी पंडितों को घर-बार छोड़कर भागने को मजबूर होना पड़ा तो उनकी संपत्तियों को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी सरकार की थी लेकिन सरकार इसमें विफल रही। उनके मकान, दुकान व अचल संपत्तियों पर कब्जा कर लिया गया। बाद में विस्थापितों को डरा-धमकाकर औने-पौने दामों में उन संपत्तियों को खरीद लिया गया। अब सरकार ने विस्थापितों की ऐसी अचल संपत्तियों को वापस कराने का बीड़ा उठाया है।

बता दें कि इससे 1997 में भी विस्थापित कश्मीरियों की संपत्ति वापस करने के लिए कानून बनाया गया था, लेकिन इस कानून में शिकायतकर्ता को जिलाधिकारी के सामने जाकर शिकायत करनी होती थी। इसके बाद उसे उसकी संपत्ति पर हुए कब्जे का सुबूत देकर उसे वापस पाने के लिए संघर्ष करना पड़ता था। यहां पर प्रशासन की तरफ से उसको सहयोगी नहीं मिल पाता था, नतीजतन एक भी विस्थापित कश्मीरी को उसकी जमीन या संपत्ति वापस नहीं मिल पाई।

इस बार ऐसा नहीं है। शिकायतकर्ता को पोर्टल या सिर्फ अपनी शिकायत देनी होगी। इसके उसे सारी जानकारी देनी होगी कि उसकी पुश्तैनी जमीन, किस गांव, जिले या तहसील में है। शिकायत दर्ज कराने के बाद संबंधित जिले का जिलाधिकारी खुद ईमेल या फोन पर शिकायतकर्ता से संपर्क करेगा और उन्हें वापस दिलाने के लिए कार्रवाई शुरू करेगा। इस बार कश्मीरी विस्थापितों को यह बताने का मौका दिया जाएगा कि उन्हें किन परिस्थितियों में अपनी जमीन— जायदाद को बेचना पड़ा था।शिकायतकर्ता के दावे सही पाए जाने पर प्रशासन उस संपत्ति को वापस लेकर मूल मालिक को लौटाएगा।

Follow Us on Telegram
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Aug 23 2021 17:32:45

sarahniya

user profile image
Anonymous
on Aug 23 2021 16:01:42

Very Good.... Aisa padhkar hi dil khush ho gaya,Jab kaam ho jaayega,to kitni khushi hogi... Main non J and K ka hoon

Also read: श्रीनगर में 4 आतंकियों समेत 15 OGW मौजूद, सर्च ऑपरेशन जारी ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भारत ने पाकिस्तान सहित OIC को लगाई लताड़ ..

पाकिस्तानी एजेंटों को गोपनीय सूचनाएं दे रहे थे DRDO के संविदा कर्मचारी, पुलिस ने किया गिरफ्तार
IED टिफिन बम मामले में पकड़े गए चार आतंकी, पंजाब हाई अलर्ट पर

उत्तराखंड: उधम सिंह नगर में बढ़ती मुस्लिम आबादी, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने के प्रयास तेज

दिनेश मानसेरा उत्तराखंड स्थित उधमसिंह नगर जिले में हरिद्वार के बाद सबसे तेजी से मुस्लिम आबादी बढ़ रही है। आंकड़ों के मुताबिक उधमसिंह नगर में करीब 7 लाख मुस्लिम आबादी 2022 तक हो जाएगी। राज्य में यूं मुस्लिम आबादी का बढ़ना, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने जैसा हो जाएगा। उत्तराखंड स्थित उधमसिंह नगर जिले में हरिद्वार के बाद सबसे तेजी से मुस्लिम आबादी बढ़ रही है। आंकड़ों के मुताबिक उधमसिंह नगर में करीब 7 लाख मुस्लिम आबादी 2022 तक हो जाएगी। बता दें कि उधमसिंह नगर राज्य का मैदानी जिला है। भगौलिक ...

उत्तराखंड: उधम सिंह नगर में बढ़ती मुस्लिम आबादी, देवभूमि के स्वरूप को खंडित करने के प्रयास तेज