पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

चीन के दूतावास ने चीनियों से कहा, 'मानो तालिबान के फरमान, पहनो उनके बताए कपड़े, खाओ उनके तरीके से'

WebdeskAug 23, 2021, 03:44 PM IST

चीन के दूतावास ने चीनियों से कहा, 'मानो तालिबान के फरमान, पहनो उनके बताए कपड़े, खाओ उनके तरीके से'
तालिबान नेताओं के साथ चीन के नेता (फाइल चित्र)



चीन खुलकर तालिबान के पाले में उतर आया है। काबुल स्थित अपने दूतावास के जरिए वह तालिबान लड़ाकों को खुश करने की कोशिश में, अपने लोगों से इस्लामिक तौर—तरीकों पर चलने का कह रहा है  



तालिबान की मिजाजपुर्सी करने में दो देश लगभग बिछे पड़े हैं। पाकिस्तान और चीन!चीन तो तालिबान को खुश करने में पाकिस्तान को पीछे छोड़ने पर आमादा दिखता है। काबुल स्थित चीनी दूतावास ने चीनी नागरिकों को फरमान जारी कर कहा है कि वे तालिबान के बताए इस्लामिक पहनावे के हिसाब से कपड़े पहनें। इतना ही नहीं दूतावास ने कहा है कि तालिबानियों की तरह सार्वजनिक तरीके से खाना खाएं।  

इस संबंध में ग्लोबल टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट हैरान करती है। रिपोर्ट में साफ लिखा गया है कि चीनी दूतावास ने अपने नागरिकों को इस्लामिक रीति-रिवाजों का कड़ाई से पालन करने को कहा है।

अफगानिस्तान में तालिबान के चढ़ बैठने से चीन बाग—बाग दिखता है। ड्रेगन अपनी हरकतों से लगातार तालिबान के सामने पलक—पांवड़े बिछाता दिख रहा है। अब उसने 21 अगस्त को काबुल के अपने दूतावास को कहा है कि वह अफगानिस्तान में मौजूद अपने लोगों से इस्लामिक तौर—तरीके से रहने की अपील करे। इसमें इस्लामिक पहनावा, सबसे सामने खाना खाना वगैरह जैसी चीजें शामिल हैं। बेशक, तालिबान के बरादर सरीखे नेताओं ने बीजिंग के अपने दौरों में चीन को इसकी पट्टी पढ़ाई होगी।



 

अफगानिस्तान में रह रहे चीन के नागरिकों को एक एडवाइजरी जारी की गई है जिसमें चीनी दूतावास ने सलाह दी है कि वे काबुल स्थित हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट जाने से बचें, दूसरे झगड़े वाली जगहों से भी दूरी बना कर रखें। महीने ही चीन के विदेश मंत्री वांग यी तालिबान के नेताओं से मिले थे। 



ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट यह भी बताती है कि अफगानिस्तान में रह रहे चीन के नागरिकों को एक एडवाइजरी जारी की गई है जिसमें चीनी दूतावास ने सलाह दी है कि वे काबुल स्थित हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट जाने से बचें, दूसरे झगड़े वाली जगहों से भी दूरी बना कर रखें। अभी पिछले महीने ही चीन के विदेश मंत्री वांग यी चीन के बंदरगाह शहर त्यानजिन में तालिबान के नेताओं से मिले थे। तब उनका कहना था कि शायद अफगानिस्तान एक उदार इस्लामी नीति अपनाए।
तालिबान भी चीन की तरफ खास झुकाव दिखा रहा है। जिहादी तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने पिछले दिनों कहा भी था कि अफगानिस्तान को फिर से खड़ा करने में चीन मदद करे तो उसका स्वागत किया जाएगा। सुहैल ने यहां तक कहा कि चीन ने अफगानिस्तान में सुकून और सुलह पैदा करने में खास मदद की है।
इतना ही नहीं सुहैल ने चीन के सीजीटीएन चैनल को साक्षात्कार भी दिया जिसमें कहा कि चीन बहुत बड़ी अर्थव्यवस्था और योग्यता वाला एक बड़ा देश है। वह अफगानिस्तान को फिर से बनाने में बड़ा मददगार हो सकता है।

एक तरफ चीन का ऐसा रवैया है तो दूसरी तरफ उसे ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट की हरकतों का भी खतरा है। इसलिए बीच बीच में वह ऐसे जुमले भी उछालता रहा है कि अफगानिस्तान को फिर से आतंकवाद का अड्डा नहीं बनने देना चाहिए। तालिबान के सत्ता में है तो इस मुसीबत से निपटने में मजबूती से उसका समर्थन करना होगा। असल में चीन को पता है कि ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट के सैकड़ों जिहादी तालिबान की उठापटक के चलते अफगानिस्तान में एकजुट होने लगे हैं। ड्रेगन का चिंता है कि कहीं इससे उसके सिंक्यांग प्रांत में उइगर विद्रोह सिर न उठा ले। इसीलिए वह तालिबान की खुशामद करने में पूरी तरह जुटा दिखता है।

 

Comments
user profile image
Anonymous
on Aug 23 2021 16:54:16

यही तो है वामपंथी चाइनीज चालाकी 2014 में केंद्र में भाजपा का सरकार बनते ही बंगाल में वामपमथी कांग्रेस और कथीत टीएमसी के नेता कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया गाय विभिन्न नाटकों के माध्यम से सब भाजपा बन जाओ भाजपा का अंदर आंदर विस्तार का लाभ उठाओ खाओ पियो टाइमपास करो

Also read: पाकिस्तान के पोसे खालिस्तानी संगठन जड़ें जमा रहे अमेरिका में, हडसन इंस्टीट्यूट की रपट ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: हक्कानी से जान का खतरा जान, मुल्ला बरादर काबुल से गया कंधार ..

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग
बेटे से 'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगवाने वाला गया जेल

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें

वेब डेस्क   तालिबान के बुर्के, हिजाब के फरमान के विरुद्ध पारंपरिक अफगानी परिधानों में अपनी एक से एक तस्वीरें साझा कीं। तालिबानी मुल्लाओं और उनकी मध्ययुगीन सोच के विरुद्ध यह अनोखा विरोध प्रदर्शन दुनियाभर के लोगों को रास आ रहा है। उन्होंने इन महिलाओं के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया है। स्वाभिमानी अफगान महिलाओं ने शरीयती तालिबान और उनके हिजाब व बुर्के के फरमान की धज्जियां उड़कर रख दी हैं। विदेशों में बसीं अनेक अफगान महिलाएं 13 सितम्बर को सोशल मीडिया पर छाई रहीं। उन्होंने तालि ...

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें