पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

इस्राएल और ईरान पर चीन का साइबर हमला, तकनीक और व्यवसाय में उनकी तरक्की पर नजर

WebdeskAug 13, 2021, 05:24 PM IST

इस्राएल और ईरान पर चीन का साइबर हमला, तकनीक और व्यवसाय में उनकी तरक्की पर नजर


दूसरे देशों पर चीन का एक और साइबर हमला सामने आया है। वह दूसरे देशों से तकनीक और व्यवसाय के क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा और तरक्की की जासूसी कर रहा है



चीन की साइबर हमले की एक और हरकत का खुलासा हुआ है। गत 10 अगस्त को उसने ईरान, सऊदी अरब तथा कई और देशों के अनेक सार्वजनिक तथा निजी क्षेत्र के समूहों की वेबसाइट को साइबर हमला करके हैक कर लिया था। प्रौद्योगिकी तथा व्यावसायिक प्रगति पर नजर रखने के लिए चीन ने अनेक इस्राएली कंपनियों को भी हैक किया है। यह जानकारी देने वाली दैनिक द जेरूसलम पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय साइबर सुरक्षा कंपनी फेयरआई ने बताया है कि इतने बड़े पैमाने पर यह साइबर हमला प्रौद्योगिकी और व्यावसायिक टक्कर तथा प्रगति की जासूसी रणनीति से जुड़ा लगता है।

फेयरआई  के अनुसार, बीजिंग का मध्य पूर्व के तमाम देशों के साथ कारोबार चलता है। द जेरूसलम पोस्ट की मानें तो चीन का मकसद आंतरिक ईमेल पर होने वाली बातों और आकलनों को देखना है ताकि कीमतों को तय करने में वह एक कदम आगे रहे।

इतना ही नहीं, चीन का यह साइबर हमला 2019 में इस्राएल के राष्ट्रीय साइबर निदेशालय द्वारा घोषित माइक्रोसॉफ्ट के शेयरपॉइंट के शोषण से भी संबंद्ध है। इसका अधिकतम प्रभाव वर्तमान में महसूस नहीं किया जा रहा है। अनुमान है कि 2019 में शेयरपॉइंट आने के बाद वहां की कुछ सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की संस्थाओं के पास साइबर हमलों के सामने एक दीवार जैसी बन गई थी। लेकिन अन्य मामलों में, इस्राएल में चीन की ताकझांक 2020 तक चलती रही थी। हाल की यह घटना गत जुलाई में यूरोप, एशिया, अमेरिका तथा नाटो देशों की सरकारों द्वारा चीन के इसी तरह के बड़े पैमाने पर साइबर हमले की घोषणा से मेल खाती दिखती है।

Follow Us on Telegram

 

Comments

Also read: पाकिस्तान के पोसे खालिस्तानी संगठन जड़ें जमा रहे अमेरिका में, हडसन इंस्टीट्यूट की रपट ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: हक्कानी से जान का खतरा जान, मुल्ला बरादर काबुल से गया कंधार ..

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग
बेटे से 'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगवाने वाला गया जेल

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें

वेब डेस्क   तालिबान के बुर्के, हिजाब के फरमान के विरुद्ध पारंपरिक अफगानी परिधानों में अपनी एक से एक तस्वीरें साझा कीं। तालिबानी मुल्लाओं और उनकी मध्ययुगीन सोच के विरुद्ध यह अनोखा विरोध प्रदर्शन दुनियाभर के लोगों को रास आ रहा है। उन्होंने इन महिलाओं के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया है। स्वाभिमानी अफगान महिलाओं ने शरीयती तालिबान और उनके हिजाब व बुर्के के फरमान की धज्जियां उड़कर रख दी हैं। विदेशों में बसीं अनेक अफगान महिलाएं 13 सितम्बर को सोशल मीडिया पर छाई रहीं। उन्होंने तालि ...

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें