पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

तकनीक के प्रयोग से दिव्यांग बच्चे हो रहे हैं शिक्षित

WebdeskAug 11, 2021, 02:43 PM IST

तकनीक के प्रयोग से दिव्यांग बच्चे हो रहे हैं शिक्षित


राज्य सरकार ने प्रदेश के दिव्यांग बच्चों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ने के लिये महत्वपूर्ण कदम उठाये हैं. दिव्यांगजनों को समाज में सम्मान दिलाने के लिए उनकी शिक्षा पर जोर दिया जा रहा है. इसके लिए शिक्षा प्रणाली में बेहतर तकनीक का इस्तेमाल भी किया जा रहा है.



एक वर्ष के दौरान 3,15,806 दिव्यांग बच्चों को प्रभावी अनुश्रवण की मोबाइल आधारित ‘समर्थ’ तकनीकी की सुविधा मुहिया कराई गई है.  समर्थ प्रणाली के माध्यम से 82,820 दिव्यांग बच्चों के लिये ऑनलाइन वैयक्तिक शैक्षिक योजना को तैयार किया गया. बेसिक शिक्षा विभाग ने प्रदेश के 3,908 गंभीर रूप से दिव्यांग बच्चों को होम बेस्ड एजुकेशन देने के लिए आवश्यक सामग्री और स्टेशनरी प्रदान की है.

 

प्रदेश सरकार ने दृष्टि दिव्यांग बच्चों को शिक्षा प्रदान करने के लिये 3008 सेट ब्रेल पाठ्य पुस्तकों का वितरण किया है.  पूर्ण दृष्टि दिव्यांग बच्चों को ब्रेल स्टेशनरी में इम्बोस्ड चार्ट्स, ब्रेल पेपर्स, स्टाइलस, टाइप्स, स्पर्शीय चित्र आदि उपलबध कराए गये हैं. अल्प दृष्टि दिव्यांग बच्चों के शिक्षण के लिये सेट इनलार्ज प्रिंट की पाठ्य पुस्तकें उपलब्ध कराई गई हैं. 1263 बच्चों को लो-विजन किट में बोल्ड मार्कर, राइटिंग गाईड, शीट मैग्नीफायर उपलब्ध कराया गया है.

 

प्रदेश में दिव्यांग बच्चों को सहायक उपकरण और यंत्र उपलब्ध कराने के लिये एलिम्को कानपुर के सहयोग से 278 मापन एवं वितरण शिविर लगाए गये. इन शिविरों में 20,966 दिव्यांग बच्चों को ट्राइसाइकिल, व्हीलचेयर, रोलेटर वॉकिंग स्टिक, सीपी चेयर, मल्टी सेन्सरी एजुकेशन किट, ब्रेल किट्स, मोबिलिटी केन, स्मार्ट केन, डेजीप्लेयर और हेयरिंग एड आदि उपलब्ध कराए गये.

Follow Us on Telegram

Comments

Also read: मौलाना कलीम के खिलाफ नितिन पंत ने दी तहरीर, कन्वर्ट करके बनाया था अली हसन ..

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा।

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा। सुनिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मा. जे. नंदकुमार को कल सुबह 10 बजे और सायं 5 बजे , फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब समेत अन्य सोशल मीडिया मंच पर।

Also read: चन्नी की सरकार में सिद्धू हैं ‘सरदार’ ..

पंजाब में ही नहीं देश को है 'क्रिप्टो कांग्रेस' से खतरा
दिल्ली दंगा: तीन मामलों में छह आरोपितों-मुहम्मद,परवेज,अशरफ,सोनू,जावेद और आरिफ के खिलाफ कोर्ट ने तय किए आरोप

रुड़की में पकड़ा गया था पाकिस्तानी जासूस,नैनीताल हाई कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा

उत्तराखंड ब्यूरो   नैनीताल हाई कोर्ट ने 2012 में पकड़े गए आबिद अली को 7 साल की सजा सुनाई है। आबिद अली पाकिस्तानी नागरिक है, जिसे खुफिया एजेंसियों ने गिरफ्तार किया था। नैनीताल हाई कोर्ट ने 2012 में पकड़े गए आबिद अली को 7 साल की सजा सुनाई है। आबिद अली पाकिस्तानी नागरिक है, जिसे खुफिया एजेंसियों ने गिरफ्तार किया था। जानकारी के मुताबिक आबिद पाकिस्तानी नागरिक था। फ़र्ज़ी दस्तावेजों के आधार पर रुड़की में रह रहा था। उसने यहीं की एक महिला को प्रेम जाल में फंसाकर शादी कर ली। इसी सबके बीच ...

रुड़की में पकड़ा गया था पाकिस्तानी जासूस,नैनीताल हाई कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा