पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

चंपावत: देवीधुरा में आठ मिनट तक चला पत्थर मार बगवाल युद्ध, जानिए क्या होता है इस खेल में

WebdeskAug 23, 2021, 11:25 AM IST

चंपावत: देवीधुरा में आठ मिनट तक चला पत्थर मार बगवाल युद्ध, जानिए क्या होता है इस खेल में

 


उत्तराखंड के चंपावत जिले के बाराहीधाम देवीधुरा में हर साल रक्षा बंधन के दिन पत्थर मार बग्वाल युद्ध होता है। देश में अपनी तरह का अनूठा युद्ध है यह



उत्तराखंड के चंपावत जिले के बाराहीधाम देवीधुरा में हर साल रक्षा बंधन के दिन पत्थर मार बग्वाल युद्ध होता है। देश में अपने तरह के इस अनोखे बगवाल युद्ध की अवधि करीब आठ मिनट रही। इस दौरान चार खाम और सात थोकों के रणबांकुरों में से 77 बगवाली वीर चोटिल हो गए। जो लोग घायल हुए उनका रक्त मां बाराही को अर्पित माना जाता है।


कहते हैं कि सालों पहले यहां बलि की प्रथा थी। चार गांव बारी—बारी से एक नर बलि देते थे। एक बार एक वृद्धा के पुत्र की बारी आ गयी। दो गांवों ने इसका विरोध किया तो लड़ने झगड़ने पर उतारू हो गए। दोनों पक्षों में मंदिर परिसर में पथराव हुआ। दोनों पक्षों का रक्त बहता देख मंदिर पुजारी ने बीच में आकर आपसी संघर्ष रोक दिया। और जिनका रक्त बहा उसे माता बाराही को अर्पित मान लिया। तब से हर रक्षाबंधन के दिन यही परंपरा चली आ रही है। देवीधुरा के दो दो गांव आमने—सामने होकर पत्थर युद्ध करते हैं। इसी युद्ध को बगवाल कहा जाता है।

 

हर साल इस युद्ध को देखने हजारों लोग देवीधुरा पहुंचते हैं। कोरोना महामारी के कारण लगातार दूसरे वर्ष भी दर्शकों की संख्या बेहद कम रही। वहीं बगवाल युद्ध में 300 से अधिक रणबांकुरों ने प्रतिभाग किया। सुबह दस बजे सबसे पहले गहरवाल खाम के योद्धाओं ने बाराही मंदिर की परिक्रमा की। उसके बाद लमगडिय़ा खाम के योद्धा मंदिर में पहुंचे। जबकि बालिक और चम्याल खाम के योद्धा सबसे अंत में मंदिर की परिक्रमा को पहुंचे। चारों खामों के मंदिर परिसर में स्थित खोलीखांड दुर्बाचौड़ मैदान में पहुंचने के बाद मंदिर के पुजारी के संकेत के बाद बगवाल युद्ध शुरू हो गया। इस बार प्रशासन की सख्ती के कारण बगवाल मेले में दर्शकों की आवाजाही प्रतिबंधित होने के कारण बहुत कम लोग बगवाल देखने को पहुंचे। बाद में बगवाल युद्ध में चोटिल हुए लोगों का मंदिर परिसर में ही उपचार किया गया।

 

Follow Us on Telegram
 

Comments

Also read: मौलाना कलीम के खिलाफ नितिन पंत ने दी तहरीर, कन्वर्ट करके बनाया था अली हसन ..

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा।

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा। सुनिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मा. जे. नंदकुमार को कल सुबह 10 बजे और सायं 5 बजे , फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब समेत अन्य सोशल मीडिया मंच पर।

Also read: चन्नी की सरकार में सिद्धू हैं ‘सरदार’ ..

पंजाब में ही नहीं देश को है 'क्रिप्टो कांग्रेस' से खतरा
दिल्ली दंगा: तीन मामलों में छह आरोपितों-मुहम्मद,परवेज,अशरफ,सोनू,जावेद और आरिफ के खिलाफ कोर्ट ने तय किए आरोप

रुड़की में पकड़ा गया था पाकिस्तानी जासूस,नैनीताल हाई कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा

उत्तराखंड ब्यूरो   नैनीताल हाई कोर्ट ने 2012 में पकड़े गए आबिद अली को 7 साल की सजा सुनाई है। आबिद अली पाकिस्तानी नागरिक है, जिसे खुफिया एजेंसियों ने गिरफ्तार किया था। नैनीताल हाई कोर्ट ने 2012 में पकड़े गए आबिद अली को 7 साल की सजा सुनाई है। आबिद अली पाकिस्तानी नागरिक है, जिसे खुफिया एजेंसियों ने गिरफ्तार किया था। जानकारी के मुताबिक आबिद पाकिस्तानी नागरिक था। फ़र्ज़ी दस्तावेजों के आधार पर रुड़की में रह रहा था। उसने यहीं की एक महिला को प्रेम जाल में फंसाकर शादी कर ली। इसी सबके बीच ...

रुड़की में पकड़ा गया था पाकिस्तानी जासूस,नैनीताल हाई कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा