पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

बाइडन ने किया दुनिया को सावधान, जरा भी नहीं बदला है तालिबान

WebdeskAug 20, 2021, 04:56 PM IST

बाइडन ने किया दुनिया को सावधान, जरा भी नहीं बदला है तालिबान
काबुल पर कब्जा करने वाले तालिबान। (प्रकोष्ठ में) अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन


एबीसी न्यूज चैनल को दिए एक साक्षात्‍कार में राष्‍ट्रपति बाइडन ने कहा कि उन्हें भरोसा नहीं हो रहा तालिबान अंतरराष्ट्रीय समुदाय से एक वैध सरकार के तौर पर मान्‍यता पाना चाह रहा है



अमेरिका के राष्‍ट्रपति जो बाइडन ने अपने ताजा साक्षात्कार में साफ कहा है कि तालिबान ही नहीं दूसरे आतंकवादी संगठनों से भी दुनिया को सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा है कि इस भ्रम में कोई न रहे कि तालिबान बदल गया है, वह जरा भी नहीं बदला है।

एजेंसी एपी की रपट के मुताबिक अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने कहा है कि अफगानिस्‍तान की सत्‍ता पर हथियारों और जिहाद के बूते कब्‍जा करने वाला तालिबान दुनिया भर में समर्थन जुटाने की जीतोड़ कोशिश में लगा है, लेकिन दुनिया के सभी देश समझ लें कि इस आतंकी गुट में बिल्कुल भी बदलाव नहीं आया है। वह तथा अन्य आतंकी संगठन आज भी दुनियाभर के लिए एक बड़ा खतरा हैं। बाइडन ने कहा कि तालिबान अफगानिस्तान की सत्‍ता पर कब्‍जा करने के बाद अस्तित्व के संकट का सामना कर रहा है। उन्होंने आगे कहा कि वर्तमान में अल कायदा और उसके साथ मिले हुए दूसरे आतंकी संगठनों से दुनिया के तमामा हिस्सों के लिए खतरा बढ़ गया है।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने कहा है कि अफगानिस्‍तान की सत्‍ता पर हथियारों और जिहाद के बूते कब्‍जा करने वाला तालिबान दुनिया भर में समर्थन जुटाने की जीतोड़ कोशिश में लगा है, लेकिन दुनिया के सभी देश समझ लें कि इस आतंकी गुट में बिल्कुल भी बदलाव नहीं आया है। वह तथा अन्य आतंकी संगठन आज भी दुनियाभर के लिए एक बड़ा खतरा हैं। बाइडन ने कहा कि तालिबान अफगानिस्तान की सत्‍ता पर कब्‍जा करने के बाद अस्तित्व के संकट का सामना कर रहा है। 

19 अगस्त को एबीसी न्यूज चैनल को दिए एक साक्षात्‍कार में राष्‍ट्रपति बाइडन ने कहा कि उन्हें भरोसा नहीं हो रहा तालिबान अंतरराष्ट्रीय समुदाय से एक वैध सरकार के तौर पर मान्‍यता पाना चाह रहा है! अफगानिस्‍तान में जो कुछ हाल में देखने में आया है उस पर बाइडन का कहना है कि वर्तमान में अल कायदा हो या उसके दूसरे साथी आतंकी गुट, इन सबसे दुनिया के दूसरे हिस्सों के लिए खतरा अफगानिस्तान से भी कहीं ज्यादा बढ़ गया है। उन्होंने आगे कहा कि सीरिया हो या पूर्वी अफ्रीका, अल कायदा से जुड़े आतंकी गुटों की तरफ से पैदा की गई समस्याओं को अनदेखा करना सही नहीं होगा। अमेरिका के लिए तो यह विशेषरूप से एक बड़ा खतरा है।
 

Comments
user profile image
Anonymous
on Aug 20 2021 22:37:36

आतंकवादीयों का सरदार है चीन रशिया और पहले भारत था अप्रत्यक्ष चीन रशिया का मददगार इसलिये तो देश में कांग्रेस वामपंथी परेशान है मोदी सरकार तालिबान पर निति स्पष्ट करें। भाई इतना जल्दी भी क्या है।

Also read: सार्क से क्यों न तालिबान के मित्र पाकिस्तान को किया जाए बाहर ..

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा।

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा। सुनिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मा. जे. नंदकुमार को कल सुबह 10 बजे और सायं 5 बजे , फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब समेत अन्य सोशल मीडिया मंच पर।

Also read: भारत की तरक्की में सहयोग को तैयार अमेरिकी कंपनियां, निवेशकों के लिए बताया भारत को अनु ..

लड़कियों के स्कूल पर फोड़े बम, तालिबान से शह पाकर पाकिस्तान में भी लड़कियों की पढ़ाई पर नकेल कसना चाहते हैं जिहादी
चीनी हैकरों के निशाने पर भारत के मीडिया समूह, अमेरिकी साइबर सुरक्षा कंपनी ने किया दावा

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला

  अफगानिस्तान के 20 प्रांतों में 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों को अपने दफ्तर बंद करने पड़े हैं। वे अब न खबरें छापते हैं, न चैनल चलाते हैं   अफगानिस्तान बीते एक महीने के मजहबी उन्मादी तालिबान लड़ाकों के आतंकी राज में देश के 150 से ज्यादा मीडिया संस्थानों पर ताले लटक चुके हैं। उनके पास इतना पैसा नहीं रहा कि वे अपना काम चलाते रहें। तालिबान लड़ाकों की 'सरकार' ने आते ही सूचना के अधिकार की चिंदियां बिखेर दीं यानी 'सरकार' कब, क्या, कैसे कर रही है यह किसी को जान ...

शरिया राज में रौंदा गया मीडिया, 150 से ज्यादा अफगानी मीडिया संस्थानों पर लटका ताला