पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

राज्य

पुलिस फ़ोर्स में दाढ़ी रखना संवैधानिक अधिकार नहीं

WebdeskAug 24, 2021, 12:00 AM IST

पुलिस फ़ोर्स में दाढ़ी रखना संवैधानिक अधिकार नहीं


अयोध्या जनपद के खंडासा थाने में तैनात सिपाही मोहम्मद फरमान मजहब के अनुसार दाढ़ी बढ़ाए हुए था. चेतावनी देने के बाद भी जब उसने दाढ़ी नहीं बनवाई तो उसे निलंबित कर दिया गया. अपने निलंबन के खिलाफ उसने इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में याचिका योजित की. हाईकोर्ट ने उसकी याचिका खारिज कर दिया.  इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा कि  पुलिस फोर्स में दाढ़ी रखना संवैधानिक अधिकार नहीं है.


इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सिपाही मोहम्मद फरमान की याचिका खारिज कर दी . हाईकोर्ट ने उसके  निलंबन  और आरोप पत्र के मामले में दखल देने से इन्कार  कर  दिया. सिपाही फरमान ने दो याचिका दायर की थी. पहली याचिका में उसने पुलिस महानिदेशक के  26 अक्टूबर 2020 को जारी सर्कुलर को चुनौती दी थी.

दूसरी याचिका में उसने विभागीय अनुशासनात्मक कार्रवाई को चुनौती दी थी. न्यायमूर्ति राजेश सिंह चौहान की एकल पीठ ने दोनों याचिकाओं को सुना. याची के वकील ने कहा कि संविधान में प्रदत्त धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकार के अंतर्गत याची ने मुस्लिम सिद्धांतों के आधार पर दाढ़ी रखी हुई है.

सरकारी वकील ने याची के पक्ष का विरोध किया और कहा कि दोनों ही याचिकायें  पोषणीय नहीं हैं.  हाईकोर्ट ने दोनों याचिकाओं को खारिज कर दिया.

Follow Us on Telegram
 

Comments

Also read: मौलाना कलीम के खिलाफ नितिन पंत ने दी तहरीर, कन्वर्ट करके बनाया था अली हसन ..

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा।

टेलीकास्ट दोहराएं: एक नरसंहार को स्वतंत्रता का संघर्ष बताने के ऐतिहासिक झूठ से हटेगा पर्दा। सुनिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मा. जे. नंदकुमार को कल सुबह 10 बजे और सायं 5 बजे , फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब समेत अन्य सोशल मीडिया मंच पर।

Also read: चन्नी की सरकार में सिद्धू हैं ‘सरदार’ ..

पंजाब में ही नहीं देश को है 'क्रिप्टो कांग्रेस' से खतरा
दिल्ली दंगा: तीन मामलों में छह आरोपितों-मुहम्मद,परवेज,अशरफ,सोनू,जावेद और आरिफ के खिलाफ कोर्ट ने तय किए आरोप

रुड़की में पकड़ा गया था पाकिस्तानी जासूस,नैनीताल हाई कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा

उत्तराखंड ब्यूरो   नैनीताल हाई कोर्ट ने 2012 में पकड़े गए आबिद अली को 7 साल की सजा सुनाई है। आबिद अली पाकिस्तानी नागरिक है, जिसे खुफिया एजेंसियों ने गिरफ्तार किया था। नैनीताल हाई कोर्ट ने 2012 में पकड़े गए आबिद अली को 7 साल की सजा सुनाई है। आबिद अली पाकिस्तानी नागरिक है, जिसे खुफिया एजेंसियों ने गिरफ्तार किया था। जानकारी के मुताबिक आबिद पाकिस्तानी नागरिक था। फ़र्ज़ी दस्तावेजों के आधार पर रुड़की में रह रहा था। उसने यहीं की एक महिला को प्रेम जाल में फंसाकर शादी कर ली। इसी सबके बीच ...

रुड़की में पकड़ा गया था पाकिस्तानी जासूस,नैनीताल हाई कोर्ट ने सुनाई 7 साल की सजा