पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

'इस्लामिक आतंकवाद का गढ़ बन जाएगा अफगानिस्तान', पंजशीर से मसूद की चेतावनी

WebdeskAug 23, 2021, 01:18 PM IST

'इस्लामिक आतंकवाद का गढ़ बन जाएगा अफगानिस्तान', पंजशीर से मसूद की चेतावनी
अल अरबिया अंग्रेजी पोर्टल पर प्रकाशित हुआ अहमद मसूद का साक्षात्कार


अहमद मसूद का कहना है कि अफगानिस्तान में तालिबान का राज हुआ तो यहां इस्लामिक आतंकवाद का गढ़ बन जाएगा। उसने साफ कहा कि 'हम हथियार नहीं डालेंगे, हम युद्ध के लिए तैयार हैं'



कभी पंजशीर के ताकतवर लड़ाके रहे अहमद शाह मसूद का बेटा अहमद मसूद अफगानिस्तान में तालिबान के विरुद्ध लगातार आक्रामक रुख अपनाए हुए है। उसने एक बार फिर कहा है कि 'हम आत्मसमर्पण नहीं करेंगे, हम युद्ध के लिए एकदम तैयार हैं। पंजशीर हथियार नहीं डालेगा।'
उल्लेखनीय है कि तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जे के विरुद्ध अहमद ने कमर कस ली है और उसका दावा है कि उसके साथ पूरे अफगानिस्तान के तालिबान विरोधी लड़ाके एकजुट हैं। पंजशीर ऐसी जगह है, जो तालिबान के लिए टेढ़ी खीर साबित होती रही है। तालिबान के लिए वहां कब्जा करना हमेशा से एक बड़ी चुनौती रहा है। आज एक बार फिर यहां लड़ाई की अगुआई कर रहा है अहमद मसूद। आज अमरुल्ला सालेह के साथ वही अफगानिस्तान में तालिबान विरोधी चेहरा बनकर उभरा है। राष्ट्रीय प्रतिरोध मोर्चे के नेता अहमद मसूद ने 22 अगस्त को दो साक्षात्कार दिए जिसमें तालिबान के विरुद्ध अपने गुट की सोच का खाका सामने रखा। उसने एक साक्षात्कार दिया रॉयटर्स को और साथ ही दुबई के अल-अरबिया चैनल से बात की।

उम्मीदों और जोश से सराबोर तालिबान विरोधी लड़ाकाओं के नेता अहमद मसूद ने साफ शब्दों में कहा कि 'पंजशीर हथियार नहीं डालेगा। पंजशीर ने आज तक किसी के आगे घुटने नहीं टेके हैं। तालिबान के सामने भी वह ऐसा कभी नहीं करेगा।' अहमद ने यह बात भी जोड़ी कि तालिबान अगर बातचीत करने को तैयार नहीं होता, तो जंग टाली नहीं जा सकेगी। 

रॉयटर्स से बात करते हुए मसूद ने कहा कि 'रेजिस्टेंस फोर्स' सिर्फ पंजशीर के लिए नहीं लड़ रही है। मसूद ने स्पष्ट कहा कि अफगानिस्तान के सभी प्रांतों से लड़ाके पंजशीर आ पहुंचे हैं। सभी मिलकर इस एक पंजशीर पूरे देश की रक्षा में जुटे हैं। मसूद की मानें तो उसकी फौज में विशेष बल के साथ ही, स्थानीय लड़ाके तक सम्मिलित हैं।

मसूद ने कहा कि 'रेजिस्टेंस फोर्स' सिर्फ पंजशीर के लिए नहीं लड़ रही है। मसूद ने स्पष्ट कहा कि अफगानिस्तान के सभी प्रांतों से लड़ाके पंजशीर आ पहुंचे हैं। सभी मिलकर इस एक पंजशीर पूरे देश की रक्षा में जुटे हैं।



दुबई के अल अरबिया न्यूज चैनल से बात करते हुए मसूद का कहना था कि तालिबान की सरकार बने तो कोई दिक्कत नहीं है, बशर्ते यह सरकार ऐसी हो जिसमें पूरे देश की नुमाइंदगी हो। उसके अनुसार, लड़ाई का मुद्दा बस यही है।



उल्लेखनीय है कि पहली बार मसूद ने सार्वजनिक तौर पर 'रेजिस्टेंस फोर्स' के आगे की कदमों को लेकर खुलासा किया है। यह वही मसूद है जिसने पिछले दिनों 18 अगस्त को अमेरिका के अखबार वॉशिंगटन पोस्ट में एक लेख में लिखा था कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय उनके साथ सहयोग करे। उसकी यह अपील अमेरिका सहित दुनिया भर के देशों से थी। उसने लिखा था कि अफगानिस्तान में तालिबान का राज हुआ तो वह सिर्फ अफगानिस्तान के लिए दिक्कत पैदा नहीं करेगा, बल्कि फिर यह देश में इस्लामिक आतंकवाद का गढ़ बन जाएगा।


Follow Us on Telegram

 

Comments

Also read: पाकिस्तान के पोसे खालिस्तानी संगठन जड़ें जमा रहे अमेरिका में, हडसन इंस्टीट्यूट की रपट ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: हक्कानी से जान का खतरा जान, मुल्ला बरादर काबुल से गया कंधार ..

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग
बेटे से 'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगवाने वाला गया जेल

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें

वेब डेस्क   तालिबान के बुर्के, हिजाब के फरमान के विरुद्ध पारंपरिक अफगानी परिधानों में अपनी एक से एक तस्वीरें साझा कीं। तालिबानी मुल्लाओं और उनकी मध्ययुगीन सोच के विरुद्ध यह अनोखा विरोध प्रदर्शन दुनियाभर के लोगों को रास आ रहा है। उन्होंने इन महिलाओं के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया है। स्वाभिमानी अफगान महिलाओं ने शरीयती तालिबान और उनके हिजाब व बुर्के के फरमान की धज्जियां उड़कर रख दी हैं। विदेशों में बसीं अनेक अफगान महिलाएं 13 सितम्बर को सोशल मीडिया पर छाई रहीं। उन्होंने तालि ...

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें