पाञ्चजन्य - राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक पत्रिका | Panchjanya - National Hindi weekly magazine
Google Play पर पाएं
Google Play पर पाएं

विश्व

8 साल के हिंदू बच्चे को फंसा दिया ईशनिंदा कानून में, ‘मौत’ की सजा का मंडराया खतरा

WebdeskAug 10, 2021, 06:57 PM IST

8 साल के हिंदू बच्चे को फंसा दिया ईशनिंदा कानून में, ‘मौत’ की सजा का मंडराया खतरा


पाकिस्तान में मजहबी उन्मादी छोटी सी बात पर अल्पसंख्यक समुदायों के लोगों पर ईशनिंदा कानून के तहत मामले दर्ज कराते आ रहे हैं, जिसकी सजा मौत है। अब तक कई 'दोषियों' को इस आरोप में मौत की सजा सुनाई जा चुकी है। दुनियाभर में बच्चे के विरुद्ध ईशनिंदा कानून लगाने का हो रहा विरोध

कट्टर इस्लामी देश पाकिस्तान में इंसानियत किसे कहते हैं, इसकी शायद मिसाल मिलनी मुश्किल हो, लेकिन हैवानियत हर जगह नजर आ जाएगी। वहां रहीमयार खाने के उस आठ साल के हिन्दू बच्चे को लेकर मजहबी उन्मादी तलवारें खींचे हुए हैं जिसके कथित तौर पर एक मदरसे में पेशाब कर दिया था। हालांकि अदालत ने तो उसे बच्चा होने की वजह से होशियार करके छोड़ दिया था, जिसके विरुद्ध मजहबियों ने लामबंद होकर भोंग के गणेश मंदिर को तोड़ा था। लेकिन ताजा समाचार के अनुसार अब उस बच्चे पर ईशनिंदा का आरोप लगाया गया है। पाकिस्तान के कानून के तहत ईशनिंदा कानून के तहत उसे 'मौत' की सजा दी जा सकती है। इस बात की जैसे ही खबर फैली, दुनियाभर में इसका विरोध होने लगा।

डेली मेल लिखता है कि 'आठ साल के इस बच्चे के नाम का खुलासा नहीं हुआ है। उसने मदरसे की लाइब्रेरी में पेशाब कर दिया था, जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया। भीड़ ने बच्चे पर ईशनिंदा का आरोप लगाया। पाकिस्तान में इसे लेकर कानून है, जिसके तहत मौत की सजा दी जाती है। इससे पहले भी पाकिस्तान में ईशनिंदा कानून के तहत कई मामले देखने में आए हैं, जिनमें भीड़ ने हिंसा फैलाई और घातक हमले किए।'

हिंदू समुदाय में डर
ब्रिटेन का दैनिक द गार्जियन ने लिखा कि बच्चे के परिवार के एक व्यक्ति ने पहचान ना बताने की शर्त पर कहा है, ‘बच्चे को ईशनिंदा के बारे में भी नहीं पता कि ये होता क्या है। उसे गलत तरह से इस प्रकरण में उलझाया जा रहा है। वह समझ ही नहीं पा रहा है कि उसने क्या जुर्म किया है। क्यों उसे एक हफ्ते तक जेल में रखा गया।' वे कहते हैं, 'हमने अपनी दुकान छोड़ दी, काम छोड़ दिया है। पूरा हिन्दू समुदाय बहुत डरा हुआ है। अब हम उस इलाके में नहीं लौटना चाहते। हमें यकीन नहीं है कि अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के लिए कुछ कदम उठाया जाएगा या अपराधियों के खिलाफ कोई कार्रवाई की जाएगी।'

द गार्जियन को बच्चे के परिवार के एक व्यक्ति ने पहचान ना बताने की शर्त पर बताया, ‘बच्चे को ईशनिंदा के बारे में भी नहीं पता कि ये होता क्या है। उसे गलत तरह से इस प्रकरण में उलझाया जा रहा है। वह समझ ही नहीं पा रहा है कि उसने क्या जुर्म किया है। क्यों उसे एक हफ्ते तक जेल में रखा गया।' वे कहते हैं, 'हमने अपनी दुकान छोड़ दी, काम छोड़ दिया है। पूरा हिन्दू समुदाय बहुत डरा हुआ है। अब हम उस इलाके में नहीं लौटना चाहते। हमें यकीन नहीं है कि अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के लिए कुछ कदम उठाया जाएगा या अपराधियों के खिलाफ कोई कार्रवाई की जाएगी।'

इस प्रकरण को लेकर दुनियाभर के सामाजिक एक्टिविस्ट और कानून के जानकार हैरान हैं। उनका कहना है कि बच्चे के खिलाफ दर्ज ईशनिंदा के आरोप गलत हैं। इससे पहले इतनी छोटी उम्र के किसी बच्चे पर ईशनिंदा का आरोप नहीं लगाया गया है। पाकिस्तान के ईशनिंदा कानून को लेकर अनेक मानावाधिकार संगठन विरोेध करते आ रहे हैं। इस मुस्लिम बहुल देश में पांथिक अल्पसंख्यकों के विरुद्ध इस कानून का ज्यादातर गलत इस्तेमाल होता आया है। अदालत इस कानून के तहत 'दोषी' साबित हुए कुछ लोगों को मौत की सजा सुना तो चुकी है, लेकिन अभी तक किसी को फांसी दी नहीं गई है।

Follow Us on Telegram
 

Comments

Also read: पाकिस्तान के पोसे खालिस्तानी संगठन जड़ें जमा रहे अमेरिका में, हडसन इंस्टीट्यूट की रपट ..

kannur-university - सावरकर और गोलवलकर के विचारों से क्यों डर रहे हैं वामपंथी?

सावरकर के “हिंदुत्व: कौन एक हिंदू है”, और गोलवलकर के “बंच ऑफ थॉट्स” और “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड”, दीनदयाल उपाध्याय के “एकात्म मानववाद” और बलराज मधोक के “भारतीयकरण: क्या, क्यों और कैसे” जैसे विचारों से वामपंथी शिक्षाविद घबराने लगे हैं...

#kannuruniversity #savarkar #Golwarkar

Also read: हक्कानी से जान का खतरा जान, मुल्ला बरादर काबुल से गया कंधार ..

कंधार में तालिबान के विरुद्ध प्रचंड प्रदर्शन, सैन्य बस्तियां खाली करने के फरमान के विरोध में गर्वनर हाउस के बाहर जमा हुए हजारों लोग
बेटे से 'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगवाने वाला गया जेल

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें

वेब डेस्क   तालिबान के बुर्के, हिजाब के फरमान के विरुद्ध पारंपरिक अफगानी परिधानों में अपनी एक से एक तस्वीरें साझा कीं। तालिबानी मुल्लाओं और उनकी मध्ययुगीन सोच के विरुद्ध यह अनोखा विरोध प्रदर्शन दुनियाभर के लोगों को रास आ रहा है। उन्होंने इन महिलाओं के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया है। स्वाभिमानी अफगान महिलाओं ने शरीयती तालिबान और उनके हिजाब व बुर्के के फरमान की धज्जियां उड़कर रख दी हैं। विदेशों में बसीं अनेक अफगान महिलाएं 13 सितम्बर को सोशल मीडिया पर छाई रहीं। उन्होंने तालि ...

शरिया की स्याही बनाम परिधान अफगानी, विदेशों में बसीं अफगान महिलाओं ने पारंपरिक परिधान में साझा कीं तस्वीरें